पटना. अपुष्ट सूत्रों की माने तो बिहार में अगले साल से लागू होने वाली शराबबंदी में पेंच फंस गया है. राजस्व हानि को देखते हुए नीतीश सरकार राज्य में फिलहाल सिर्फ देसी शराब पर ही प्रतिबंध लगाएगी.बता दें कि नीतीश कुमार ने कुछ दिन पहले ही कहा था कि बिहार में पूरी तरह से शराबबंदी अगले साल 1 अप्रैल 2016 से लागू हो जाएगी.
 
सूत्रों के मुताबिक फिलहाल जिन अफसरों को नीति बनाने के लिए आदेश दिया गया है उनको सिर्फ देसी शराबबंदी को लेकर कहा गया है. हालांकि सरकार इससे इनकार कर रही है. बिहार में सिर्फ देसी शराब पर ही बैन लगाएंगे नीतीश! सूत्रों के मुताबिक बिहार सरकार राज्य में फिलहाल सिर्फ देसी शराब पर ही प्रतिबंध लगाएगी. राजस्व हानि के अंदेशे को लेकर ऐसा फैसला लिया जा सकता है.
 
उधर आबकारी मंत्री अब्दुल जलील मस्तान ने कहा है कि बिहार में पूर्ण रूप से शराबबंदी होगी, चाहे वो देशी हो या विदेशी. नीति जो भी बन रही हो लेकिन नीतीश कुमार की मंशा है कि पूरी तरह से शराबबंदी हो. अगर कहीं कोई भूल हुई होगी उसमें सुधार होगा. राजस्व की हानि होगी तो होगी, सरकार बनिए की दुकान नहीं है.