चेन्नई. तमिलनाडु में लगातार हो रही बारिश से हालात बेहद खराब होते जा रहे हैं. मंगलवार को हुई जोरदार बारिश के बाद चेन्नई में पिछले 100 साल का रिकार्ड टूट गया है. इसके साथ ही स्कूल-कॉलेज बंद कर दिए गए हैं. सड़क और रेलमार्ग बुरी तरह प्रभावित है जबकि एयरपोर्ट के रनवे पर पानी भरने की वजह से हवाई यातायात भी ठप है. राहत कार्य़ के लिए सेना की भी मदद ली जा रही है.
 
 
मोदी ने की जयललिता से बात
इस बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तमिलनाडु की मुख्यमंत्री जयललिता से बाढ़ के हालात पर बातचीत की है और राज्य को हर ज़रूरी सहायता मुहैया कराने का भरोसा दिया है. पीएम मोदी ने ट्वीट किया, ‘‘तमिलनाडु के हिस्सों में बाढ़ की स्थिति को लेकर जयललिताजी से बात की। इस दुर्भाग्यपूर्ण घड़ी में सभी संभावित मदद और सहयोग का आश्वासन दिया.’’ 
 
रनवे पानी में डूबा
चेन्‍नई एयरपोर्ट भी पानी से लबालब भर गया है. हालात ये हैं कि एयरपोर्ट के रन-वे तक पानी में डूब गए हैं और विमान भी पानी में खड़े हैं. एयरपोर्ट के निदेशक दीपक शास्‍त्री ने कहा कि जब तक एयरपोर्ट पर जल स्‍तर में कमी नहीं आएगी, विमान उड़ान नहीं भर पाएंगे. मंगलवार को भी रात 10 बजे तक नौ उड़ानों को रद्द कर दिया गया. चेन्नई एयरपोर्ट को दिन भर के लिए बंद कर दिया गया है. बताया जा रहा है कि यहां पर 300-400 लोगों के फंसे होने की खबर है. एनडीआरएफ के डीआईजी ने यहां पांच और टीमों को तैनात करने का फ़ैसला किया है.
 
रेल रुकीं और सड़के पानी में डूबी
भारी बरसात से रेल यातायात भी प्रभावित हुआ है. रेल ट्रैकों पर पानी भर जाने की वजह से करीब 13 ट्रेनों को रद्द कर दिया गया है.चेन्‍नई के लिए आने-जाने वाली ट्रेनों पर भी इसका खासा असर पड़ा है, जिससे लोगों को भारी परेशानियों का सामना करना पड़ रहा है. चेन्‍नई के कई हिस्‍सों में सड़कें पानी से लबालब भर गई हैं. बताया जा रहा है कि घरों में भी बारिश का पानी भर गया है. लोगों का कहना है कि शहर में बिजली किल्‍लत का सामना भी करना पड़ रहा है। चेन्‍नई चिडि़याघर में भी बाढ़ सरीखे हालात देखे जा रहे हैं.
 
मरने वालों की संख्या 188 हुई
भरी वर्षा से हो रहे हादसों में मरने वालों की संख्या 188 पहुंच गई है. सीएम जयललिता ने हालात का जायजा लिया और कहा कि पुलिस, अग्निशमन और राहत, एनडीआरएफ, राज्य आपदा बल और तटीय गार्ड हालात पर काबू पाने के लिए प्रयासरत हैं. दूसरी तरफ मौसम विभाग के अधिकारियों ने सचेत किया है कि अभी अगले चार दिनों में राज्यभर में और बारिश होगी और कुछ क्षेत्रों में भारी से बहुत भारी वर्षा होगी. बारिश की वजह से स्कूल और कॉलेज 16 वें दिन भी बंद रहे. आने वाले दिनों में भी भारी बारिश के आसार बताए जा रहे हैं. नदी के किनारे रहने वाले तकरीबन 3000 लोगों को सुरक्षित जगहों पर पहुंचाया गया है. सेना के जवान भी राहत के काम में मदद कर रहे हैं.