तिरूवनंतपुरम. राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार विजेता फिल्मकार अली अकबर ने दावा किया है कि केरल के मदरसे में वह भी बाल उत्पीड़न में शिकार रहे हैं. राष्ट्रीय फिल्म पुरस्कार पाने वाले मलयालम निर्देशक ने कहा, ‘‘मैं जब आठ साल का था तब एक उस्ताद ने मेरा उत्पीड़न किया.यह घटना वायनाड में मेरे मूल स्थान मीनागडी के एक मदरसे में हुई. मैं झगड़कर उस व्यक्ति से अपने आप को छुड़ाया . ’’ 
 
उन्होंने दावा किया कि मदरसे में उनके कई सहपाठी भी ऐसे उत्पीड़न से गुजरे. अली अकबर का दावा ऐसे समय आया है जब कुछ दिन पहले केरल की पत्रकार ने खुलासा किया कि अपने बचपन में वह मदरसे में यौन उत्पीड़न की चश्मदीद रही है.
 
 
कुछ दिनों पहले महिला पत्रकार रेजीना ने फेसबुक में लिखा कि जब वह मदरसे में पढ़ने जाती थी तो वहां के उस्ताद उसके दोस्तों के साथ दुर्व्यवहार करते थे. रेजीना ने अपने पोस्ट में लिखा था कि मदरसे में उस्ताद लड़कों को अपने पास बुलाकर अनुचित जगह पर छूते थे.
 
आगे उन्होंने पोस्ट में लिखा कि पहली क्लास के पहले दिन, उस्ताद ने सभी लड़कों को बुलाया, उनकी पेंट की चेन खोल कर अनुचित जगह पर छूने लगे और पूछे जाने पर वह खुला कहते है कि साइज चेक किया जा रहा है.