नई दिल्ली. हरियाणा के ताकतवर मंत्री अनिल विज से बहस करने के बाद ट्रांसफर कर दी गईं फतेहाबाद की एसपी संगीता कालिया के बारे में शायद आपको ये पता नहीं होगा कि उनके पिता इसी फतेहाबाद पुलिस दफ्तर में पेंटर का काम करते थे जहां वो 9 महीने से एसपी थीं.
 
 
IPS संगीता कालिया के पिता धर्मपाल कालिया पुलिस विभाग में पेंटर थे. यह और दिलचस्प  कि वह फतेहाबाद पुलिस आफिस के ही पेंटर थे. बचपन में संगीता टीवी सीरियल ‘उड़ान’ से प्रभावित हुईं. फिर उन्होंने आईपीएस बनने का सपना देखा. पिता ने खर्चे काटकर संगीता को पढ़ाया. 
 
2005 में संगीता ने पहली बार संघ लोक सेवा आयोग की परीक्षा दी लेकिन सफलता नहीं मिली. दूसरी बार में आईपीएस बनने का सपना तो पूरा नहीं हुआ पर एलायड सर्विस के लिए चुन ली गईं. धुन की पक्की संगीता ने नौकरी नहीं की और तीसरी बार 2009 में फिर परीक्षा में शामिल हुईं और सफलता के साथ ही साथ आईपीएस के लिए चुन ली गईं.
 
 
2010 में बेटी संगीता के आईपीएस बनने के बाद पिता धर्मपाल ने पेंटर की नौकरी छोड़ दी. गुड़गांव में डीएसपी रहने के बाद संगीता एसपी बनकर फतेहाबाद आई थीं. कल्पना करिए उस बेटी के मन का जो उस दफ्तर में एसपी बनकर बैठी थी जिस दफ्तर की दीवार को कभी उसके पिता ने रंग-रोगन किया हो.