न्यूयॉर्क. अमेरिका दौरे पर गए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूयॉर्क के वाल्डोर्फ एस्टोरिया होटल में अमेरिका के 40 से अधिक शीर्ष कार्यकारियों (सीईओ) के साथ डिनर किया. इस कार्यक्रम का आयोजन फॉर्च्यून पत्रिका द्वारा किया गया. पीएम मोदी ने कहा कि दुनिया भर में विदेशी निवेश में गिरावट आई है, लेकिन भारत में इसमें 40% बढ़ोतरी हुई है, यह भारतीय अर्थव्यवस्था में भरोसे को दर्शाता है. उन्होंने कहा कि शासन प्रणाली में सुधार हमारी शीर्ष प्राथमिकता है. हम नियमों को सरल बना रहे हैं, निर्णय में तेजी और पारदर्शिता ला रहे हैं.
 
गौरतलब है कि फॉर्च्यून के संपादक एलन मुरै ने डिनर के दौरान आयोजित बातचीत के सत्र का संचालन किया. प्रधानमंत्री ने होटल में एक के बाद एक कई बैठकें कीं. उनसे मुलाकात करने वालों में प्रसिद्ध उद्योगपति और न्यूयार्क के पूर्व मेयर माइक ब्लूमबर्ग तथा मास्टरकार्ड के सीईओ और अमेरिका-भारत बिजनेस काउंसिल के प्रमुख अजय बंगा भी शामिल थे. पीएम मोदी से मुलाकात करने वाले अन्य लोगों में एयरोस्पेस और रक्षा क्षेत्र की बड़ी कंपनी लॉकहीड मार्टिन के कॉरपोरेशन के अध्यक्ष मार्लिन ह्यूसन और इंफ्रास्ट्रक्चर फर्म ऐकॉम के अध्यक्ष और सीईओ माइक बुर्के भी थे.
 
मीडिया सेक्टर के दिग्गजों से मुलाकात
इससे पहले अमेरिका मीडिया सेक्टर के दिग्गजों से मुलाकात के दौरान पीएम मोदी ने कहा कि भारत बौद्धिक संपदा अधिकार (आईपीआर) के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है, जो रचनात्मकता को आगे बढ़ाने के लिए आवश्यक है. अमेरिकी फर्मों का कहना है कि बौद्धिक संपदा अधिकार के बारे में भारत में कानून ढीला है, खासकर फार्मास्युटिक्ल सेक्टर में, लेकिन भारत का कहना है कि उसके कानून वैश्विक नियमों के अनुसार ही है.
 
भारत के आर्थिक विकास को लेकर हुई बात
इससे पहले, भारत में अमेरिकी निवेश आमंत्रित करने का पुरजोर प्रयास करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अमेरिका की शीर्ष कंपनियों के सीईओ के समक्ष भारत की आर्थिक वृद्धि की कहानी पेश की और भारत में कारोबार करने में पेश आ रही रुकावटों को दूर करने का आश्वासन दिया. उन्होंने उद्योगों के प्रमुखों के समक्ष सरकार के सुधार एजेंडे की तस्वीर पेश की. फॉर्च्यून-500 से जुड़ी कई कंपनियों के प्रमुखों से मुलाकात के दौरान प्रधानमंत्री ने कहा, हमारी सरकार निजी सार्वजनिक भागीदारी (पीपीपी) का मजबूती से समर्थन करती है. पिछले वर्ष हमारी वृद्धि दर 7.3 प्रतिशत रही. प्रत्यक्ष विदेशी निवेश में भी 40 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई है.
 
निवेश के लिए प्रोत्साहित किया
विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता विकास स्वरूप ने प्रधानमंत्री के हवाले से ट्वीट के जरिये यह जानकारी देते हुए बताया कि पीएम मोदी ने बैठक के दौरान पिछले 15 महीने में कराधान, आधारभूत संरचना और एफडीआई के क्षेत्र में निवेश बढ़ाने की दिशा में किए गए प्रयासों का जिक्र किया. स्वरूप ने कहा कि कंपनियों के सीईओ ने प्रधानमंत्री के साथ भारत में कारोबार करने के अपने अनुभवों को साझा किया. प्रधानमंत्री ने चर्चा के दौरान इनके सुझाव नोट किए, साथ ही भारत में विदेशी संस्थागत निवेशकों और एफडीआई के लिए उपलब्ध व्यापक अवसरों का जिक्र किया.
 
एजेंसी इनपुट भी