वाशिंगटन. पीएम मोदी की यूएस यात्रा से पहले ही अमेरिका के उप राष्ट्रपति जो बिडेन ने वाशिंगटन में एक कार्यक्रम के दौरान भारत के साथ संबंधों की वकालत करते हुए कहा, ‘अमेरिका भारत का सबसे अच्छा मित्र बनना चाहता है.भारत और अमेरिका के संबंध 21वीं सदी को एक नई परिभाषा देगें. इसके अलावा उन्होंने कहा कि दोनों देशों में व्यापार और निवेश की बहुत संभावनाएं हैं. व्यापार और निवेश को और अधिक बढ़ाने के लिए सुधारों की जरूरत है. अमेरिका इस सुधार में भारत के साथ है. 
 
नोबेल पुरस्कार विजेता रवींद्र नाथ ठाकुर का जिक्र करते हुए उन्होंने कहा कि हम सिर्फ किनारे खड़े रहकर और पानी को देखते रहकर समुद्र पार नहीं कर सकते.  उनका इससे मतलब समुद्री व्यापार को बढ़ावा देने से था.
 
विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा, दोनों देशों में है समानता 
भारतीय विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने कहा कि भारत और अमेरिका दोनों ही लोकतांत्रिक देश हैं. अमेरिका और भारत के आदर्श समान हैं. भारत रक्षा-सुरक्षा, आतंकवाद से मुकाबला, पर्यावरणीय सुरक्षा, विज्ञानं-तकनीकी का विकास, अंतरिक्ष क्षेत्रों में विकास जैसे महत्त्वपूर्ण मुद्दों पर अमेरिका के साथ काम कर रहा है.
इसके अलावा स्वराज ने कहा, ‘जैसा कि राष्ट्रपति बराक ओबामा ने कहा था, हमारी साझा कोशिशों से भारत और अमेरिका की साझेदारी 21वीं सदी को एक नई परिभाषा देगी.
 
अमेरकी विदेश मंत्री जॉन केरी ने भी की भारत की तारीफ़ 
अमेरिकी विदेशमंत्री जॉन केरी ने कहा कि भारत और अमेरिका व्यापारिक संबंध और जुड़ाव के एक नए युग में प्रवेश कर चुके हैं. भारत और अमेरिका साथ में एक नया भविष्य बना सकते हैं. 
 
आपको बता दें कि अमेरिका में सुषमा स्वराज अमेरिका-भारत रणनीतिक वार्ता का नेतृत्व कर रही हैं.  वहीं निर्मला सीतारमण व्यापारिक वार्ता का नेतृत्व कर रही हैं. 
 
IANS