नई दिल्ली. एक तरफ जहां ओबामा ने न्यूयॉर्क के वालडोर्फ़-एस्टोरिया होटल में रुकने से इनकार कर दिया है वहीँ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को आगामी अमेरिका यात्रा के दौरान इसी होटल में रुकवाया जाएगा. बता दें कि मोदी आगामी यूएस यात्रा में न्यूयॉर्क के वालडोर्फ़-एस्टोरिया होटल में रुकेंगे, इस होटल को अब चीन की एक कंपनी ने खरीद लिया है.
 
दरअसल वालडोर्फ़-एस्टोरिया होटल को 2014 में चाइनीज़ इन्श्योरेन्स कंपनी ने खरीद लिया था.  इससे पहले ओबामा हमेशा न्यूयॉर्क के वालडोर्फ़ एस्टोरिया होटल में ही रूकते रहे हैं. ऐसा माना जा रहा है कि जासूसी के बढ़ते मामलों के चलते व्हाइट हाउस ने ये फैसला लिया है. अमेरिका का आरोप है कि चीन ने यूएस की कई महत्त्वपूर्ण जानकारियां चुराई हैं और वह जासूसी के मामलों में लिप्त रहा है. 
 
23 से 28 सितम्बर के यूएस दौरे में, मोदी न्यूयॉर्क पैलेस होटल में नहीं रूकेंगे, जो कि पीएमओ, भारत के लिए वर्षों से पसंदीदा होटल रहा है. इसके अलावा शी जिनपिंग भी यूएन जनरल असेंबली की उच्च स्तरीय वार्ता के दौरान इसी होटल में रुकेंगे. रूस के राष्ट्रपति व्लादिमीर पुतिन को भी इस होटल में रूकने में कोई समस्या नहीं है.