नई दिल्ली. देश के सबसे महत्वपूर्ण हाइवे में से एक है नेशनल हाइवे नंबर आठ. दिल्ली को राजस्थान, गुजरात और महाराष्ट्र से जोड़ने वाला ये हाइवे गुरुवार की शाम 7 बजे से ट्रैफिक जाम के चलते हज़ारों लोगों के लिए ज़हन्नुम बन गया था.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
तेज़ बारिश के चलते दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेस पर पानी भर गया. शाम के वक्त इस एक्सप्रेस-वे पर वैसे भी जाम लग जाता है. जल-भराव के बाद हालत बद से बदतर होती गई. कुछ घंटों के जाम के बाद लोगों को पहली बार पूरी रात सड़क पर गुजारनी पड़ी.
 
सुबह तक गुड़गांव-दिल्ली एक्सप्रेस पर लगा जाम कई किलोमीटर लंबा हो गया. जाम खुलवाने में बेबस गुड़गांव पुलिस को अपील करनी पड़ी कि लोग दिल्ली-गुड़गांव एक्सप्रेस से दूर ही रहें. इस जाम के चलते गुड़गांव में आज लोगों को दूध-ब्रेड और अखबार तक नहीं मिला.
 
गुड़गांव में हालात कब तक सुधरेंगे, ये बताने वाला भी कोई नहीं है. प्रशासन ने गुड़गांव के सभी स्कूल शनिवार तक के लिए बंद कर दिए हैं. जाम खुलवाने के लिए आपदा प्रबंधन विभाग और नेशनल हाइवे अथॉरिटी के लोगों को लगाया गया है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
हरियाणा सरकार के आला अफसर पूरे दिन यही माथापच्ची करते रहे कि जाम में फंसे लोगों को निकाला कैसे जाए. आज इसी सवाल पर इंडिया न्यूज के खास शो ‘बड़ी बहस’ में चर्चा हुई कि ‘24 घंटे तक हजारों लोग सड़क पर क्यों फंसे ? वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो