नई दिल्ली. आसाराम के खिलाफ गवाहों की हत्या के मामले में अहमदाबाद क्राइम ब्रांच ने आज कई खुलासे किए हैं. दरअसल, पिछले दिनों गुजरात क्राइम ब्रांच की गिरफ्त में आए हल्दर ने पूछताछ के दौरान बताया है कि गवाहों की हत्या कराने और AK 47 खरीदने के लिए पूरे देश से आसाराम के सेवकों ने 25 लाख रुपए इकट्ठा किए थे.
 
हल्दर का खुलासा
हल्दर ने बताया है कि उसे आसाराम के खिलाफ गवाही देने वालों को खत्म करने का आदेश दिया गया था. इसके लिए साधकों ने देश भर से 25 लाख में से 15 लाख रुपए AK 47 खरीदने के लिए झारखंड के रहने वाले दामोदर सिंह नाम को दिए गए थे. सिंह ने दो बैरल गन और 40 कारतूस प्रोवाइड कराए गए थे. जिनका इस्तेमाल पिछले साल मुजफ्फरनगर में अखिल गुप्ता के मर्डर में किया गया था.
 
आसाराम का शूटर कार्तिक हलदर एके-47 राइफल क्यों खरीद रहा था? कार्तिक हलदर की फंडिंग कैसे हो रही थी? सवाल उठ रहा है कि क्या जेल से अपना नेटवर्क चला रहे हैं आसाराम?  इंडिया न्यूज के खास शो ‘बड़ी बहस’ में इसी अहम मुद्दे पर पेश है चर्चा.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो