नई दिल्ली. संघ प्रमुख मोहन भागवत ने नसीहत दी थी कि हर भारतीय को भारत माता की जय बोलना चाहिए. इस पर असदुद्दीन ओवैसी भड़क गए और उनके बयान पर विवाद भड़का. बाद में संघ ने साफ कर दिया कि जबर्दस्ती भारत माता की जय नहीं बुलवाया जा सकता और विवाद ठंडा पड़ रहा था.
 
लेकिन दारूल उलूम देवबंद के फतवे ने मामला फिर से गरमा दिया है. दारूल उलूम देवबंद का कहना है कि भारत माता की जय के नारे से मुसलमानों को दूर रहना चाहिए. 
 
अब ये बड़ी बहस का मुद्दा है कि जब भारत माता की जय बोलने का कोई दबाव नहीं है, तो फिर इसके खिलाफ फतवा क्यों? क्या देश की जयकार करना इस्लाम के खिलाफ है?
 
इंडिया न्यूज के खास शो ‘बड़ी बहस’ में इसी अहम मुद्दे देखिए चर्चा.
 
वीडियो पर क्लिक करके देखिए पूरा शो