नई दिल्ली: ज्यादातर माता-पिता अपने बच्चों को अच्छी आदतें सिखाते है. जैसे बैठना, खाना खाने का सही तरीका, दूसरों के साथ कैसा व्यवहार किया जाए, झुठ बोलना गलत बात है, सच बोलें, लड़ाई-झगड़े से दूर रहने की शिक्षा देते हैं. साथ ही बच्चों को अच्छे संस्कार देते है. ताकि वह समाज में अपनी आदर्श पहचान बना सकें. लेकिन कहीं न कहीं पेरेंट्स अपने बच्चे को ‘गुड टच और बेड टच’ के बारे में जानकारी देना भूल जाते है. जिसके कारण बच्चें ‘गुड टच और बेड टच’ को लेकर जागरुक नहीं हो पाते. इसलिए बच्चों के साथ अपराध दिन-प्रतिदिन बढ़ते जा रहे है. क्योंकि बच्चे बहुत ही मासूम होते है. साथ ही बच्चे गंदे इरादों को समझ नहीं पाते है, उन्हें पता ही नहीं होता है कि गुड टच और बेड टच क्या है? माता-पिता अपने बच्चे को गुड टच और बेड टच के बारे में जानकरी दे ताकि बच्चे गंदे इरादों को समझ सकें और अपने आपको सेव कर सकें. इन टिप्स से आज ही बच्चों को सिखाएं गुड टच और बेड टच के बारे में.

बच्चों से करें खुलकर बात: ज्यादातर माता-पिता अपने बच्चों से इस विषय पर बात करने से कतराते है. लेकिन मा और पिता को अपने बच्चों के साथ खुलकर बात करनी चाहिए. बच्चे से बातकर उनकी पूरे दिन की जानकारी लें, बच्चों से हमेशा प्यार से बात करें ताकि वह डर की वजह से आप से कुछ छिपाए नहीं.

प्यार से समझाएं: अपने बच्चे को गुड टच और बेड टच की जानकारी देते समय प्यार से समझाए कि गुड टच और बेड टच है क्या? साथ ही बच्चों को पिक्चर दिखा कर समझाएं. बच्चों को बताएं कि अगर कोई उन्हें जबरदस्ती गोद में लेता है या किस करें तो तुरंत इंकार कर दें और इसकी जानकारी हमें दें यानी पेरेंट्स को इस बारे में जरुर बताए.

बच्चों को बताएं किस पर करे भरोसा: बच्चे बहुत ही भोले होते है. वह किसी की गंदे इरादे समझ नहीं पाते है. इसलिए माता-पिता को अपने बच्चों को रोज बताए कि किसी अनजान शख्स से बात न करें न ही खाने पीने का समान लें, अगर कोई उन्हें खाने की चीजें देता है ते तुंरत इसकी जानकारी पेरेंट्स को दें

बच्चों का भरोसा जीतें: बच्चों को हमेशा भरोसा दिलाए की आप उनके साथ है. ताकि वह अपनी सारी बातें आप से शेयर कर सकें. अगर कोई उनको कुछ गंदा लग रहा हो तो वह पहले अपने पेरेंट्स को इसके बारे में बताए.

मूंगदाल हलवा खाने के शौकीन हैं तो बाहर क्यों जाना, घर पर ऐसे बनाएं स्वादिष्ट हलवा