नई दिल्ली. आज देश भर में मकर संक्रांति का पावन पर्व मनाया जा रहा है. लोहड़ी के एक दिन बाद यह पर्व हर साल 14 जनवरी को मनाया जाता है. भारत देश में इस पर्व को विभिन्न रुप में मनाया जाता है जैसे बिहार में इसे खिचड़ी, तमिलनाडु में पोंगल, असम में बिहू आदि कहा जाता है. मकर संक्रांति को भारत में एक महत्वपूर्ण त्योहार के रुप में मनाया जाता है. हर त्योहार को सिर्फ खुशी या फिर रीति-रिवाज के तौर पर ही मनाने का मकसद नहीं होता है बल्कि कुछ त्योहारों को मनाने के पीछे अच्छे स्वास्थ्य लाभ से भी जुड़ा होता है. मकर संक्रांति उन्हीं त्योहारों में से एक है. इस दिन हर कोई उल्लास से भरा रहता है.

सूर्य भगवान की अराधना हर घर में की जाती है. लेकिन सूर्य की पूजा का महत्व मकर संक्रांति पर खास तौर पर बढ़ जाता है. मकर संक्रांति पर स्नान और दान की महत्ता होती है. देश भर में इस त्योहार को अलग अलग रूपों में मनाया जाता है. सूर्य भगवान की पूजा दक्षिण भारत में पोंगल के रूप में की जाती है. साऊथ में पोगंल त्योहार काफी खास होता है. हर राज्य में अपनी संस्कृति के अनुसार मकर संक्रांति के त्योहार को सेलिब्रेट किया जाता है. साथ ही इस दिन उत्तर भारत में पतंग उड़ाने की परंपरा भी हैं. सोशल मीडिया पर मकर संक्रांति की शुभकामनाएं हर व्यक्ति अपने करिबियों को भेजता है. आप भी मराठी में व्हाट्सएप, फेसबुक, एसएमएस और इंस्टाग्राम पर अपने दोस्तों, रिश्तेदारों और परिवार वालों को मकर संक्रांति पर इन मैसेजस से विश कर सकते हैं.

हैप्पी मकर संक्रांति 2018 मराठी इमेज मैसेजेस:

मकर संक्रांति 2018: इस दिन भूलकर भी न करें ये 10 काम वरना नहीं बरसेगी सूर्य देव की कृपा

Makar Sankranti 2018: इस वजह से मनाया जाता है मकर संक्रांति का त्योहार, ये है मकर संक्रांति पूजा विधि, शुभ मुहूर्त, मंत्र और महत्व