चंडीगढ़. एक हिंदू परिवार ने मुस्लमानों के पवित्र ग्रंथ कुरान शरीफ को 300 सालों से अपने पास संभाल कर रखा हैं. लोगों का कहना है कि कुरान की देखभाल की परंपरा कई सालों से चली आ रही है. 
 
पंजाब के कपूरथला में रहने वाला ये हिंदू परिवार इस कुरान की देखभाल करीब 300 सालों से कर रहा है. परिवार के सद्स्य संजीव कुमार सूद का कहना है कि इस कुरान कि हिफाज़त हमारे पूर्वजों की तरफ से शुरू की गई थी और इसी परंपरा को हम आगे बढ़ा रहे हैं. 
 
संजीव का कहना है कि ये दुर्लभ कुरान शरीफ उनके दादा को कपूरथला रियासत के एक वजीर ने भेंट की थी. इस कुरान शरीफ को एक लोहे के छोटे केस में बड़ी हिफाज़त के साथ रखा हुआ है. उनका ये भी कहना है कि इस कुराने के ऊपर एक लेंस लगा हुआ था, जिसकी मदद से इसे पढ़कर अल्लाह की इबादत की जाती थी, लेकिन अब ये लेंस किसी वजह से टूट गया है.  
 
उन्होंने बताया कि दुबई से कुछ शेख आए थे. जिन्होंने इस कुरान शरीफ को बहुत ही नायाब बताते हुए उन्हें इसे लेने के लिए एक करोड़ की पेशकश दी थी, जिसे हमने ठुकरा दिया था.
बता दें कि ये कुरान शरीफ 2.5 सेंटीमीटर लंबी, 2 सेंटीमीटर चौड़ी और सेंटीमीटर मोटी है. कुरान में 358 पन्ने हैं, जिसमें 8 आयतें लिखी हैं.