नई दिल्ली. जल संसाधन मंत्रालय एक गुरुवार को एक चौंकाने वाली रिपोर्ट जारी की है. बता दें कि पिछले कुछ सालों से बारिश में भारी कमी की गिरावट वजह से पूरे देश भर में सूखे की स्तिथि बनी हुई है. सूखे की वजह से जहां अनाज की कमी पड़ रही है वहीं सब्जियों के दाम आसमान छू रहे हैं.  सूखे की हालात से  देश के कई हिस्सों में किसानो ने आत्महत्या की और इसमें वृद्धि देखने को मिली है.
 
बयान में कहा, “देश के प्रमुख 91 जलाशयों में 17 सितंबर की स्थिति के मुताबिक, 92.631 बीसीएम पानी जमा है, जो इन जलाशयों की कुल क्षमता का 59 फीसदी है.”  यह जलराशि गत वर्ष की समान अवधि की जमा राशि के मुकाबले 74 फीसदी और गत 10 साल की औसत सालाना जमा राशि की 77 फीसदी है.
 
 
91 जलाशयों में से हिमाचल प्रदेश और त्रिपुरा के जलाशयों की स्थिति गत वर्ष की समान अवधि के मुकाबले बेहतर है.वहीं पंजाब, राजस्थान, झारखंड, ओडिशा,पश्चिम बंगाल, गुजरात, महाराष्ट्र, छत्तीसगढ़, उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, मध्य प्रदेश,आंध्र प्रदेश, तेलंगाना,   कर्नाटक, केरल और तमिलनाडु के जलाशयों में जमा जलराशि हालांकि गत वर्ष की समान अवधि के मुकाबले कम है.