नई दिल्ली. भारत तेजी से दुनियाभर में डेंगू की राजधानी बनता जा रहा है, और यहां अब डेंगू के सबसे ज्यादा मामले दर्ज किए जाते हैं. मॉनसून में इसके आंकड़े और बढ़ जाते हैं.

ताजा रिपोर्ट के अनुसार, 58 लाख से ज्यादा भारतीय हर साल डेंगू से पीड़ित होते हैं. यह आंकड़ा सरकारी रिपोर्ट में दर्ज 20000 के आंकड़े से 282 गुना ज्यादा है.

डेंगू के लक्षण पहचानें?

  • डेंगू होने के आम लक्षण में बुखार, उल्टी, सिर दर्द, आखों के पीछे दर्द होता है.
  • इससे जोड़ो व मांसपेशियों में तेज दर्द रहता है. 
  • दिल पर करता है गहरा असर
  • डॉक्टर्स बताते हैं कि डेंगू से पीड़ित मरीज के प्लेटलेट्स की संख्या कम होने से उसके शरीर के अहम अंगों और खास कर दिल की कार्यप्रणाली पर प्रभाव पड़ता है. अगर प्लेटलेट्स की संख्या 45000 से नीचे चली जाए तो दिल की कार्यप्रणाली पर गहरा असर हो सकता है. इस समय उनके दिल के इर्द-गिर्द तरल पदार्थ जमा होने से दिल के मांसपेशियों की कमजोरी और रक्त ध्मनियों में रिसाव जैसी गंभीर समस्याएं होती हैं.

डेंगू से बरतिए सावधानी: 

  • डेंगू को रोकने के लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है, इसलिए हमें आसपास मच्छरों के पैदा होने से रोकने के लिए उचित कदम उठाने चाहिए.
  • मच्छरों के काटने से बचने के लिए पूरी बाजू के कपड़े पहनने चाहिए और घर से बाहर निकलते वक्त मच्छर प्रतिरोधी दवा का इस्तेमाल करना चाहिए. दिल के मरीजों को खास तौर पर मॉनसून शुरू होने से पहले अपने डॉक्टर से सावधानिओं की जानकारी ले लेनी चाहिए.
  • डेंगू के साथ दिल के रोग की समस्याए जानलेवा होती हैं. अगर इनके लक्षणों का जल्दी पता लग जाए तो इसके इलाज के लिए एंटीअर्थमेटिक्स, इनोटरोप्स औरपेसमेकर आदि का इस्तेमाल किया जा सकता है. 

IANS