नई दिल्ली: आजकल काम का कल्चर कुछ ऐसा हो गया है कि लोग ऑफिस में घंटों-घंटों तक अपनी सीट पर बैठे रह जाते हैं. वो अपने काम के प्रेशर में इतना व्यस्त हो जाते हैं कि खुद के लिए भी टाइम निकालना मुश्किल हो जाता है. यहां तक कि अपने स्वास्थ्य तक का भी ख्याल नहीं रखते. मगर आपको जानकर हैरानी होगी कि ऐसे व्यक्तियों में कई सारी बीमारियों का खतरा ज्यादा होता है. अगर आप भी ऐसा ही करते हैं, तो सावधान हो जाएं. क्योंकि लगातार काम करना और एक ही जगह पर घंटों बैठे रहना आपके स्वास्थ्य के लिए काफी खतरनाक साबित हो सकता है. 

ये भी पढ़ें: 

हाल ही में हुए एक शोध से इस बात की पुष्टि हुई है कि जो लोग लगातार 5-6 घंटे तक बैठे रह जाते हैं और जो जरा सा भी इस दौरान उठते और टहलते नहीं, उनके स्वास्थ्य पर इसका काफी बुरा असर पड़ता है. शोध में ये बात सामने आई है कि अगर आप लगातार 5-6 घंटे बैठे रहते हैं, तो आपको गंभीर बीमारियों से जूझना पड़ सकता है. ये भी बताया गया है कि ऐसे आदत वाले व्यक्ति में कैंसर, डायबिटिज और हार्ट अटैक जैसी बीमारियों का खतरा ज्यादा होता है. 
 
दरअसल, करीब 40 साल के लंबे अनुसंधान के बाद ये बात सामने आई है कि लंबे समय से बैठे रहने से शरीर की मांसपेशियां क्रियाशील नहीं रहती, जिस कारण हमारे दिमाग को ताजा खून और ऑक्सीजन नहीं मिल पाती है. 
 
इतने लंबे समय तक शोध करने वाले यूनिवर्सिटी ऑफ साउथ कारोलिया के प्रोफेसर स्टेवन ब्लेयर का कहना है कि यह सच है कि कसरत कर इंसान कई तरह की बीमारियों से बच सकता है, मगर इसका यह मतलब कतई नहीं है कि लगातार बैठकर काम करने या टेलीविजन देखने से शरीर को होने वाले नुकसान बचा जा सकता है.
 
ये भी पढ़ें:
 
ब्लेयर ने ऐसी आदत को लेकर चिंता व्यक्ति की है और कहा है कि लंबे समय तक बैठे रहने से शरीर में मांसपेशियों के फैट भी कम ही जल पाते हैं, जिसके कारण फैटी एसिड हार्ट की कार्य प्रणाली में रूकावट पैदा करता है.
 
इस शोध में ये बात भी सामने आई है कि लंबे समय तक बैठे रहने से शरीर का ब्लड प्रेशर बढ़ता है और खराब कोलेस्ट्राल में वृद्धि तो होती ही है. साथ ही इससे कई तरह की बीमारियों के होने का खतरा भी बढ़ जाता है. लगातार बैठे रहने से शरीर की पाचन क्षमता भी बिगड़ जाती है. 
 
इसलिए अगर आप ऐसी आदत से परेशान हैं, तो समय-समय पर उठकर टहलने की आदत डाल लें. अगर आप ऐसा करते हैं, तो निश्चित रूप से आप कई बीमारियों को खुद से दूर रखेंगे. क्योंकि कहा गया है इंसान की सेहत उसके हाथ में ही होती है.