नई दिल्ली: सेक्स को लेकर लोग खुलकर बात करना पसंद नहीं करते लेकिन फर्स्ट टाइम सेक्स को लेकर हर किसी के अंदर यह इच्छा होती है कि यह पल खास हो जिसे कभी न भुलाया जा सके.
 
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक सेक्स को लेकर अक्सर एक बात कही जाती है कि अगर आप फर्स्ट टाइम अपने पार्टनर के साथ इंटीमेट हो रहे हैं तो यह पल असहज और दर्द भरा हो सकता है लेकिन दूसरी तरफ यह नॉर्मल और आपको अच्छा लगने वाला भी हो सकता है.
 
 
फर्स्ट टाइम सेक्स को लेकर अक्सर यह बात कही जाती हैं कि खासकर लड़कियों को उस दौरान कुछ प्रॉब्लम होती हैं जैसे ब्लीडिंग, सुजन, असहजता जैसे कई तरह के प्रॉब्लम का सामना करना पड़ता है. लेकिन ऐसा होने के पीछे बस एक ही कारण है जानकारी का अभाव. रिसर्च के मुताबिक जानकारी के अभाव की वजह से लड़कियां या कई लड़के भी काफी डर जाते हैं जिसके वजह से वह अपनी फर्स्ट टाइम उस पल का मजा सही से नहीं ले पाते हैं.
 
फर्स्ट टाइम सेक्स के दौरान आखिर क्यों डरते हैं लोग
 
दर्द का डर
सेक्स के दौरान लड़कियां इस बात से ज्यादा डरी हुई रहती हैं कि उन्हें दर्द होने वाला है. और ऐसे समय पर लड़की के पार्टनर को ये होना चाहिए कि वह अपनी पार्टनर को यह विश्वास दिलाए की ऐसा कुछ डरने वाली बात नहीं है साथ ही सेक्स से पहले इससे जुड़े बात करें ताकि उनके अंदर का डर निकले.
 
 
ब्लीडिंग
फर्स्ट टाइम सेक्स को लेकर महिलाओं या लड़कियों के अंदर एक डर अक्सर देखा गया है वह होता है ब्लीडिंग का डर. तो आपको बता दें कि इस डर को बाहर निकालने का एक ही उपाय है आपका पार्टनर किस तरह से आपके साथ बेड पर व्यवहार करता है.
 
पेनेट्रेट या ओरल सेक्स
सेक्स से पहले आपके पार्टनर की जिम्मेदारी बढ़ जाती है कि वह इस खास पल में किस प्रकार से व्यवहार करता है. इसके लिए सबसे जरूरी चीज है कि सेक्स से पहले आपका पार्टनर आपको पेनेट्रेट कैसे करता है? क्योंकि इंटरकोर्स से पहले सबसे जरूरी चीज है पेनेट्रेट करना.
 
 
सेक्स को एनजॉय करें
सेक्स को लेकर अक्सर यह बात कही जाती है कि इसको दिमागी और शारीरिक रूप से एनजॉय करना बहुत जरूरी है. अगर आप अपने पार्टनर से इमोश्नली रूप से कनेक्ट करते हैं तो सबसे ज्यादा आपको सेक्स के दौरान मजा आने वाला है.