नई दिल्ली. योग मानव शरीर के लिए बहुत ही उपयोगी क्रिया है. इससे हर पल शरीर और मन पूरी तरह से स्‍वस्‍थ्‍य रहते हैं. इतना ही नहीं इससे चेहरे पर खूबसूरती का भी संचार होता है. हालांकि शरीर की अलग अलग चीजों के लिए अलग योग बनाए गए हैं. हर योग का अपना अपना महत्‍व होता है, लेकिन इस सभी योग में एक बात जरूर मायने रखती है वह है योग का ढंग. यानि की आप उसकी प्रैक्‍िटस कैसे कर रहे हैं. 

ऐसे में आइए जानें योग करते समय इन 10 जरूरी बातों पर कैसे रखे ध्‍यान…

मोबाइल आदि रखें दूर
योग मन और शरीर को जोड़ने का काम करता है. जब आप योग करते हैं तो उस समय आप को बहुत शांत सा फील होना जरूरी है.  ऐसे में आप योग के समय अपने मोबाइल को दूर रखें.  इनता ही नहीं न खिड़की से बार बार झांके और न किसी से बात करें.  यह करने से आपका ध्‍यान केंद्रित रहेगा.

शरीर के मुताबिक ही करें
योग को करने से पहले सबसे पहले अपने शरीर को देख लें.  कुछ लोगों को शरीर काफी लचीला होता है और कुछ लोगों का शरीर काफी कडा और कसा होता है.  ऐसे में किसी भी योग को शुरू करने से पहले किसी योग टीचर से सलाह जरूर लें. ऐसे में वह आपको श्‍ारीर के हिसाब से योग क्रिया बताएंगे.

दर्द को न करें नजरंदाज
योग में श्‍ारीर का शांत होना बहुत जरूरी है.  योग के शुरूआती दिनों में आपको साधारण दर्द है तो कोई बात नहीं, लेकिन अगर ज्‍यादा दर्द या बेचैनी हो रही है तो उसे नजरंदाज न करें. ऐसे में आप पहले कुछ दिन रिलैक्‍स करें और इसके साथ ही योग टीचर या फिर किसी फिजीशियन से कंसल्‍ट करें.

ज्‍यादा पुश न करें
योग में अपने शरीर को जरूरत से ज्‍यादा पुश न करें. यह आपके लिए तकलीफ देय हो सकता है. कई बार आपके प्रशिक्षक आपको सबके साथ यानि की ज्‍यादा लोगों के साथ पुश कराते हैं तो आप न करें. हो सकता है कि यह आपको सूट करे या न करें. योग हर शरीर के लिए अलग होता है.

अति उत्‍साही न बनें
उत्‍साह जरूरी है लेकिन जरूरत के मुताबिक, ऐसा ही योग में पालन किया जाता है. ऐसा नहीं कि आप अब किसी 5 मिनट वाली योग क्रिया को 25 से 30 मिनट कर करेंगे हैं तो यह आपको फायदा नहीं पहुचाएगी. आप अपनी जरूरत और शरीर के मुताबिक योग को करें, प्रतिस्‍पर्धा या अति उत्‍साह में नहीं.

डॉक्‍टर से लें परामर्श
योग शुरू करने से पहले डॉक्‍टर से परामर्श लेना बहुत जरूरी है, क्‍योंकि कई सारे योग ऐसे है जिनसे ब्‍लड पर कंट्रोल कियसा जाता है या फिर अन्‍य बीमारियों पर. ऐसे में आप पहले डॉक्‍टर से कंसल्‍ट कर लें कि आपको कौन से ब्‍लड प्रेशर की बीमारी है. ऐसे में उनकी सलाह के मुताबिक दूसरी बीमारियों का भी योग करें.

सांस की एक्‍सरसाइज
सांस की एक्‍सरसाइज यानी कि प्रणायाम जितना फायदेमंद है उतना ही हानिकारक भी हो सकता है. बिना किसी इंस्‍ट्रक्‍शन के करने से यह आपकी याददाश्‍त या फिर दिमाग को कमजोर भी करत सकती है. ऐसे में इसे करने से पहले किसी अपने एक्‍सपर्ट या फिर डॉक्‍टर से सलाह जरूर लें.

भरे पेट न बिल्‍कुल न करे
भरे पेट योग करना काफी घातक हो सकता है. भरे पेट योग करने से पेट पर प्रेशर पड़ता है और इससे एसिड जैसी बीमारियां पनप जाती हैं. ऐसे में साफ है कि भरे पेट योग बिल्‍कुल न करें.  खाना खाने के दो घंटे बाद योग आराम से किया जा सकता है.

सबसे पहले बेसिक करें
एडवांस करने से पहले बेसिक योग पर अधिक ध्‍यान दे. सबसे पहले बेसिक योग करें, इससे आपका शरीर अच्‍छे से योग क्रिया में ढल जाएगा और आपको एडवांस करने में काफी मजा आएगा.

मनमानी से न करें योग
योग कभी अपनी मनमानी या फिर किसी को देख कर नहीं करना चाहिए. आप किसी कुशल प्रशिक्षक के नेतृत्‍व में योग करेंगे तो आपको फायदा होगा.  इसके साथ ही आपके शरीर को हानि पहुंचने का खतरा नहीं होगा.