नई दिल्ली: अभी शादी का सीजन चल रहा है और हर तरफ शादियों की ही धूम है. शादी को लेकर चाहे दूल्हा हो या दूल्हन हर किसी के अपने-अपने अरमान होते हैं. खास तौर से लड़कियां तो अपनी शादी के सपने किशारोवस्था से ही सजाने लगती हैं.
 
लेकिन लड़कियों के सामने शादी के बाद चुनौतियां भी बहुत सी होती हैं. इसमें सबसे बड़ी चुनौती होती है ससुराल वालों का दिल जीतने की. 
 
शादी का मतलब सिर्फ दो लोगों का मिलन नहीं, बल्कि दो परिवारों का मिलन होता है और क्योंकि लड़कियां अपना घर-बार छोड़कर पति के घर आती हैं, यहीं उन्हें अपना संसार बसाना होता है तो उनके लिए यह चुनौती और बड़ी हो जाती है.
 
ससुराल में सब कुछ नया होता है, वहां की परंपराएं व रीति रिवाज से लेकर वहां का परिवेश और लोगों के मिजाज तक. इन सभी से नई-नवेली दुल्हन अनजान होती है. ऐसे में एक छोटी सी भी गलती किसी भी रिश्ते पर भारी पड़ सकती है. 
 
अगर आपकी शादी जल्दी होने वाली तो आप घबराएं नहीं, हम बता रहे हैं आपको कुछ ऐसी बातें जिनको ध्यान में रखकर आप नए घर में अपनी सुहानी शुरुआत कर सकती हैं. 
 
1- ससुराल यह सोचकर तो बिल्कुल भी ना जाएं कि जाते ही वहां आपका मन लग जाएगा. क्योंकि वो जगह आपके लिए बिल्कुल नई होती है और लोग भी नए होते हैं, ऐसे में आपका मन ना लगना स्वभाविक है. मगर इसका ये मतलब भी बिल्कुल नहीं कि आप वहां अकेले में समय बिताएं या गुमसुम रहें. बल्कि इस वक्त आपको सबसे ज्यादा जरुरत है ससुराल वालों को समझने की. ऐसे में उनके पास जाएं और उनसे बातें करें. धीरे-धीरे अपने-आप आपकी दोस्ती हो जाएगी और मन भी लगने लगेगा.
 
2- सबसे अच्छी बात यह है कि ससुराल जाते ही वहां के लोगों को समझने की कोशिश करें. लेकिन एक बात का ध्यान रखें कि उनकी हर प्रकार की बातों को समझने की कोशिश ना करें. उन्हें भी स्पेस दें, समय के साथ धीरे-धीरे वो भी आपके साथ अपनी बातें शेयर करेंगे. उन्हें यह भी एहसास ना हो कि आप बखूबी समझ रही हैं और आपके चेहरे पर गुस्सा तो बिल्कुल भी नहीं झलकना चाहिए. 
 
3- इस बात का खास ख्याल रखें कि किसी से किसी की बुराई ना करें. ऐसा करने से आपकी बातें दूसरों तक पहुंच सकती हैं और इसका खामियजा आपको भुगतना पड़ सकता है. ऐसा करने से ससुराल में नकारात्मक छवि बनने का डर भी रहता है. 
 
4- जैसे कि आपके मन में अपने ससुराल को लेकर एक छवि होगी, वैसे ही आपके ससुराल वालों की भी अपने बहू को लेकर एक इमेज होगी. ऐसे में हो सकता है आप उस पर फिट ना बैठती हों, मगर घबराएं नहीं. बल्कि ये समय ऐसा है कि इस स्थिति को समझदारी से हैंडल किया जाए.
 
परिवार वालों के साथ बैठें और उन्हें अपने बारे में बताएं. साथ ही उन्हें आश्वस्त करें कि उन्होंने अपनी बहू को लेकर जो सपने संजोए हैं, उस पर पूरी तरह ना सही पर आंशिक रूप से जरूर खरा उतरने की कोशिश करेंगी.
 
5- ससुराल में एक भरा-पूरा परिवार होता है. सभी चाहते हैं कि आप उन्हें अहमियत दें. उनकी बातें समझें, ना कि उनसे बहस करने लगें. अगर आप ऐसा करती हैं तो आपका इंप्रेशन बुरा पड़ सकता है और शुरुआत में ही रिश्ते में खटास आ जाएगी. इसलिए ऐसा करने से बचें.