नई दिल्ली: एड्स फैलाने वाले वायरस एचआईवी को खत्म करने के लिए शोधकर्ताओं ने नई दवा तैयार करने का दावा किया है. दावे के मुताबिक शोधकर्ताओं की यह नई दवा जानलेवा एचआईवी वायरस का जड़ से खात्मा कर देगी.
 
शोधकर्ताओं के मुताबिक महिला और पुरुष दोनों को शामिल करके एचवीटीएन 702 नाम का एक अध्ययन किया गया. जिसके तहत तैयार नई दवा का परीक्षण 5400 लोगों पर किया जाएगा. पहले दवा को सबसे ज्यादा उन हिस्सों में इस्तेमाल किया जाएगा जहां औसतन एक हजार लोग इस वायरस का शिकार होते हैं.
 
हो सकती है रामबाण इलाज 
फिलहाल इस नई दवा के लिए शोधकर्ताओं ने दक्षिण अफ्रीका में ट्रायल भी शुरू कर दिया है. अगर परिणाम पक्ष में मिले तो यह नई दवा एचआईवी को खत्म में करने में रामबाण इलाज के तहत काम में आ सकती है. 
 
2020 तक मिलेंगे परिणाम
रिपोर्ट्स के मुताबिक अगर यह दवा 60 फीसदी भी कारगर साबित होती है तो एचआईवी पीडित लोगों को वायरस से काफी निजात मिलेगी. फिलहाल इस नई दवा का परीक्षण किया जा रहा है, जिसके परिणाम 2020 तक मिलेंगे.
 
बता दें कि एड्स के बारे में जागरूकता फैलाने के लिए 1988 से हर साल 1 दिसंबर को विश्व एड्स दिवस मनाया जाता है.