नई दिल्ली. दिल्ली में कॉलेज जाने वाली लड़कियों के पसंदीदा मार्केट्स की बात होती है तो सबसे पहला नाम आता है सरोजनी नगर का और ऑफिस जाने वालों के लिए लाजपत नगर मार्केट का. लेकिन लड़कियों के लिए एक बुरी खबर है क्योंकि उनका पसंदीदा सरोजनी नगर का रेहड़ी-पटरी वाला मार्केट जहां से वे सस्ते दामों में अपना पसंदीदा सामान खरीदती हैं वह बंद होने वाला है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक मार्केट के स्थायी दुकानदारों ने मार्केट के अंदर सड़क पर ठेला-खोमचा या पटरी लगाने वालों को हटाने के लिए हड़ताल करने की धमकी दी है. इन दुकानदारों का कहना है कि रेहड़ी-पटरी मार्केट ने पूरे इलाकों को अतिक्रमण कर लिया जिसकी वजह से आने-जाने में काफी दिक्कतें होती हैं. इसको लेकर वहां के स्थायी दुकानदारों ने कुछ दिन पहले दिल्ली नगर निगम (NDMC) में शिकायत भी की थी.
 
इन दुकानदारों का मानना है कि इतने छोटे जगह में इतनी भीड़-भाड़ होने से किसी घटना होने की संभावना ज्यादा है. इस मार्केट में 2005 में हुए एक बम बलास्ट में 43 लोग मारे गए थे और 28 घायल हो गए थे. वहीं इस मार्केट के अध्यक्ष अशोक रंधावा ने यह बात रखी है कि इन वेंडर्स की जीविका इसी रोजगार पर निर्भर करती है.
 
बता दें कि मार्केट में तकरीबन 1000 के आसपास अवैध रेहड़ी-पटरी वाले हैं, जिन्हें हटाया जाना है. सूत्रों के मुताबिक किसी अनहोनी से बचने के लिए एमडीएमसी ने पिछले कई दिनों से ट्रेडर्स असोसिएशन के साथ मीटिंग चली.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
रिपोर्ट्स के मुताबिक सरोजनी नगर मार्केट में करीब एनडीएमसी 550 दुकानें हैं. इनके अलावा 200 लोगों को लाइसेंस दिया हुआ है. इन सबके अलावा करीब 1000 अवैध वेंडर्स हैं. एनडीएमसी के अभियान के दौरान इन सभी को हटाया जाएगा.
 
इनफोर्समेंट, एनडीएमसी के डायरेक्टर राजशेखर ट्रेडर्स असोसिएशन की सहायता से सरोजनी नगर मार्केट को व्यवस्थित किया जाएगा. मार्केट में देश-विदेश के लोग खरीददारी करने आते हैं, इसलिए उनमें इसका अच्छा इंपेक्ट जाना चाहिए.