नई दिल्ली. पहले हमलोग जमीन बैठकर खाना खाते है, उसके बाद टेबल पर बैठकर खाने लगे और अब तो खड़े होकर ही खाते हैं. पुराने जमाने में तो राजा-महाराजा भी जमीन पर बैठकर ही खाते थे, लेकिन आजकल के राजा खड़े होकर खाना पसंद कर रहे हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
वैसे कायदे से जमीन पर बैठकर ही खाना चाहिए, क्योंकि इसके फायदे बहुत हैं.
1. पाचन शक्ति रहेगी दुरुस्त
 
 
जमीन पर बैठकर खाने से आपकी पाचन शक्ति शानदार रहती है, क्योंकि बैठकर खाना खाते समय आप बार-बार झुकते हैं और फिर उठते हैं. इससे पाचनतंत्र पहले से ज्यादा एक्टिव हो जाता है, जिससे खाना जल्दी पचता है.
2. खाने के साथ योग
 
 
जब आप जमीन पर पालथी मारकर बैठते हैं तो उस मुद्रा को सुखासन कहा जाता है, यानी सुख देने वाला आसन. इस प्रकार बैठकर खाने से योग भी हो जाता है. पालथी मारकर बैठने से आपका दिमाग शांत होता है और पीठ के नीचले हिस्से में दवाब बनने के कारण तनाव से मुक्ति मिलती है.
 
3.बॉडी बनेगा मजबुत और लचीला
 
 
जमीन पर बैठकर खाने के दौरान आप पालथी मारकर सुखासन की मुद्रा में होते हैं, जिससे पेट और पीठ के नीचले भाग में खिंचाव होता है. इससे शरीर का दर्द खत्म होता है और प्रतिदिन खिंचाव होने के कारण शरीर लचीला बनता है. 
 
4.वजन रहता है संतुलित
 
 
प्रतिदिन जमीन पर बैठकर खाने से आपका वजन कंट्रोल रहता है. जमीन पर बैठकर उठने से कसरत होती है, जिससे आपका वजन कम हो सकता है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
5. ब्लड सर्कुलेशन ठीक रहता है
 
 
जमीन पर बैठकर खाने से खून का स्राव बेहतर रहता है, जिससे दिल अधिक बार धड़कता है. इससे पाचन शक्ति भी मजबूत होती है.