नई दिल्ली. शुक्रवार को वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन (WHO) ने वायु प्रदूषण को लेकर एक रिपोर्ट जारी की है. इस रिपोर्ट के मुताबिक दुनियाभर के 80 फीसदी शहर प्रदूषित हवा में सांस लेने को मजबूर हैं. रिपोर्ट में इस बात का भी दावा किया गया है कि प्रदूषित हवा की वजह हृदय संबंधी बीमारी और मधुमेह के होने का खतरा ज्यादा है.
 
रिपोर्ट के अनुसार कम आय वाले 98 फीसदी देश वायु प्रदूषण की चपेट में हैं. सर्वे में 67 देशों के 795 शहरों के 2008 से 2013 के बीच के आंकडो़ं को शामिल किया गया है.
 
कई रिसर्चों में भी इस बात का खुलासा हुआ है कि प्रत्येक साल वायु प्रदूषण से दुनियाभर में करीब 3 लाख से अधिक लोगों की मौत होती है, जो काफी चिंताजनक है. वहीं विशेषज्ञों की मानें तो इस प्रदूषण से केवल सांस संबंधी बीमारियों में ही इजाफा नहीं हुआ है, बल्कि फेफड़ों के कैंसर, अस्थमा, एलर्जी, मोटापा, गर्भपात, स्पर्म में कमी आदि कई गंभीर बीमारियां भी लोगों को अपने आगोश में ले रही हैं.