चंडीगढ़. देश भर में अपनी खूबसूरती और एडवांस कल्चर के लिए मशहूर चंडीगढ़ में प्रशासन एक कड़ा कदम उठाने जा रही है. चंडीगढ़ प्रसाशन की नई पॉलिसी के मुताबिक अब लड़कियां डिस्को या पब में शॉर्ट स्कर्ट नहीं पहन सकती. प्रशासन के कहने के मुताबिक यह फैसला उसने ‘कंट्रोलिंग ऑफ प्लेसेस ऑफ पब्लिक एम्यूजमेंट, 2016′ पॉलिसी के तहत लिया गया है.
 
इसके अलावा नये नियम के मुताबिक बार टाइमिंग में भी दो घंटे की कटौती की गई है. जो बार अबतक 2 बजे रात तक खुलते थे वो 12 बजे बंद हो जाएंगे. य‍ह नियम 1 अप्रैल से लागू हो चुकी है और अब इसे कड़ाई से पालन करवाया जा रहा है.इतना ही नहीं नए नियम के मुताबिक लोगों को बंदूक या कोई अन्य हथियार डिस्को या पब में ले जाने की इजाजत नहीं होगी. भले ही लोगों पर हथियार का लाइसेंस क्यों न हो. ऐसे में सिर्फ सिक्योरिटी गार्ड ही पब के अंदर गन ले जा सकता है.
 
इस नियम की निंदा हर तरफ हो रही है, चंडीगढ़ प्रशासन के इस फैसले को लेकर सोशल एक्टीविस्ट बरखा शुक्ला सिंह ने अपना गुस्सा जाहिर करते हुए कहा है प्रशासन लिख कर दे कि शार्ट स्कर्ट पहनने के बाद भी महिलाओं के साथ कोई वारदात नहीं घटेगी.
वहीं इस फैसले पर बीजेपी नेता साज़िया इल्मी का कहना है कि ये फैसला बेहद मुर्खतापूर्ण है. प्रशासन को महिलाओं की सेफ्टी के लिए कोई और इंतजाम करना चाहिए.
 
प्रशासन ने अपनी बात कहते हुए कहा है कि चंडीगढ़ में बार और पब असामाजिक तत्वों के अड्डे बन गए थे. चंडीगढ़ में स्‍कूल के बाह‍र बिक रहे हैं ड्रग्‍स वाले पराठें, इस नए नियम के तहत नगर निगम अध्यक्ष और आयु्क्त, चंडीगढ़ एसएसपी, निदेशक, स्वास्थ्य सेवाएं और एक्साइज कमिश्नर की देखरेख में काम करने वाली नोडल समिति को बार और डिस्क के नवीकरण की अनुमति देने से मना करने का अधिकार दिया गया है.
 
डिस्क के लिए बनायी गई नयी पॉलिसी में कहा गया है कि कम कपड़े पहने महिलाओं के विज्ञापन लगाने के स्थिति में समिति द्वारा अनुमति देने से इंकार किया जा सकता है. बता दें कि नई पॉलिसी को लागू करने के बाद प्रशासन को सोशल मीडिया पर लोगों के गुस्से का सामना करना पड़ रहा है. इतना ही नहीं चंडीगढ़, नाईटकल्ब और शॉर्ट स्कर्ट को गुगल इंडिया के पेज पर बुधवार को सबसे ज्यादा सर्च किया गया है. शहर के तमाम रेस्टोरेंट और बार मालिकों ने इस नए नियम का विरोध कर रहे है.