नई दिल्ली. इस मॉर्डन लाइफस्टाइल में लोग अपने-अपने लाइफ में काफी बीजी रहते है. लेकिन इसका साइड इफेक्ट रिलेशनशिप पर पड़ता है. इंडिया में चल रहे लव रिलेशनशिप की बात करें तो इस पर हाल में ही एक किताब लांन्च हुई है ‘डेटिंग एंड मैरीज डायरीज इन इंडिया’.
 
इस किताब में पर्फेक्ट लाइफ पार्टनर की खोज को लेकर कई खुलासे किए गए हैं. इस किताब में रिलेशनशिप के बारे में बताते हुए इसके प्रकार की व्याख्या की गई है.
 
पार्टनर का फायदा उठाना
इस तरह के रिलेशनशिप पार्टनर्स के बीच प्यार बिलकुल नहीं होती. बस वह एक-दूसरों को जरुरत के हिसाब से इस्तेमाल करते है चाहे वह पैसे को लेकर या अन्य चीजों को लेकर. ऐसे रिलेशनशिप पुरी तरह से फेक लोगों से संबंधित होते है जो अपनी जरुरतें पूरी करने के लिए लाइफपार्टनर ढूंढते हैं.
 
बच्चे की वजह से कपल्स का साथ में रहना
इस तरह के रिश्तों में बच्चों के वजह से कपल्स साथ में रहते है लेकिन इनके बीच प्यार नहीं होता. वह सिर्फ बच्चे की वजह से साथ में रहते है और एक-दूसरे को मैनेज करते है.
 
अपने मन की करना
ऐसे रिलेशनशिप में पार्टनर एक दूसरे को डॉमिनेट करते है. वह एक-दूसरे को न सुनते है और समझने की कोशिश करते है. वह अपनी-अपनी करने की कोशिश करते है जिसकी वजह से रिलेशनशिप में खत्म होना आसान होता है.
 
एक-दूसरे को समय न देना
ऐसे रिलेशनशिप में पार्टनर एक-दूसरे को कम टाइम दे पाते है. जिसकी वजह से रिश्ते में खटास आ जाती है, ऐसे रिश्ते ज्यादा टाइम तक नहीं चल पाते.
 
जीरो कम्पैटिबिलिटी रिलेशनशिप
कभी-कभी दो लोग न चाहते हुए भी एक दूसरे के साथ रहते हैं और ऐसा दिखावा करते हैं कि उन दोनों में सबकुछ ठीक चल रहा है लेकिन वह एक दूसरे को पसंद नहीं करते हुए भी उन्हें साथ रहना पड़ता है. ऐसे रिलेशनशिप में लोग दिखते है कि वह खुश है लेकिन वह खुश नहीं रहते अपने रिलेशशिप से.