दिल्ली.  इस मॉर्डन लाइफस्टाइल में फ्रेंड्स के साथ ऑउटिंग करना उनके साथ रेस्टोरेंट में खाना भला किसे पसंद नहीं है. फ्रेंड्स के साथ फुल ऑन मस्ती तो सभी को पसंद है. वहीं फैमिली के साथ बैठकर डिनर, लंच या ब्रेकफास्ट करना थोड़ा बोरिंग सा लगता है. लेकिन क्या आप जानते है इस बोरियत के पीछे भी बड़े फायदे  हैं ? तो चलिए आपको बताते हैं कि फैमिली के साथ खाने के क्या फायदे हैं ?
 
कम्यूनिकेशन गैप दूर होता है
 
आजकल के भागदौड़ भरी जिन्दगी में हम सभी बहुत व्यस्त हो गए है. इतना कि अपने बच्चों का खयाल भी नहीं रख पाते.बच्चे क्या करते हैं.वो किस गलत चीज के आदी हो रहे है कुछ पता नहीं होता.लेकिन साथ बैठकर खाने से हम एक दुसरे से बात कर पाते हैं और मुश्किल हालात में भी कम्यूनिकेशन गैप दूर होता है.एक दुसरे को समझने का मौका मिलता है.
 
मुश्किल का हल निकलता है
 
एक्सपर्टस का कहना है कि परिवार के साथ खाने से एक-दुसरे से बातचीत होती है.हम अपनी मुश्किलें साझा करते है और बड़े बुजुर्ग मिलकर हमारे मुश्किलों का समाधान निकालते है.आपके मुश्किलों में परिवार आपके साथ होता है.टर्की में तो साथ बैठकर खाना ट्रेडिशन है.
 
फैमिली इंपोर्टेंस का पता चलता है
 
आजकल गैजेट्स ने हम सभी को परिवार से अलग ही कर दिया है.जिसे देखो अपने गैजेट में व्यस्त रहता है.परिवार के साथ बैठकर खाने से एक तो गैजेट की आदत खत्म होती है.दुसरा परिवार के लोगों का महत्व पता चलता है.हमें कोशिश यह करनी चाहिए कि अपने कमरे में खाने के बजाए साथ बैठकर खाना खाएं.
 
बच्चों में संस्कार आता है
 
अक्सर किसी बच्चे के खराब बर्ताव पर हम कहते हैं कि उसमें संस्कारों का अभाव है.परिवार के साथ बैठकर खाने से बच्चो की ये कमी भी दूर हो जाती है.बड़े उन्हें अच्छे बुरे के बारे में बताते हैं.जिससे आपके बच्चे ऐसी गलतीयां नहीं करते.
 
सीखने का मौका मिलता है
 
जरुरी नहीं की केवल बच्चों को ही सीखने की जरुरत होती है.कभी-कभी बड़ो को भी बच्चों से बहुत कुछ सीखने का मौका मिलता है. साथ बैठकर खाने से हम एक दुसरे से बहुत कुछ सीख सकते है.