न्यूयॉर्क. अमेरिका के न्यूयॉर्क उपभोक्ता विभाग ने एक बड़े गड़बड़झाले का पर्दाफाश करते हुए बताया है कि लड़के-लड़कियां दोनों के इस्तेमाल में आने वाले शैंपू, रेज़र, शर्ट, जींस जैसे 800 से ज्यादा एक जैसे प्रोडक्ट के लिए लड़कियों को लड़कों से काफी ज्यादा कीमत चुकानी पड़ती है. न्यूयॉर्क उपभोक्ता विभाग ने जेंडर भेदभाव के इस बड़े खेल का भंडाफोड़ करते हुए बताया है कि लड़के के लिए जो स्कूटर रेड कलर में 25 डॉलर में मिल जाता है बस उसी स्कूटर को लड़कियों के लिए पिंक कलर में 50 डॉलर में बेचा जाता है. एक ही शैंपू लड़कों के लिए 15 डॉलर और लड़कियों के लिए 19 डॉलर के पैक में आता है.
 
अमेरिकी अखबार वाशिंगटन पोस्ट में छपी खबर के अनुसार डिपार्टमेंट के कमिश्नर जूली मेनिन ने करीब छह महीने चली जांच के बाद कहा है कि जेंडर भेदभाव का यह धंधा इसलिए और भी चिंताजनक है कि लड़कियों की कमाई लड़कों की तुलना में मात्र 79 फीसदी है. मतलब कि लड़कियां कम कमाती हैं और उन्हें उसी प्रोडक्ट के लिए लड़कों से ज्यादा पैसे देने पड़ते हैं.
 
जांच में 800 से ज्यादा प्रोडक्ट में मिला रेट का जेंडर भेदभाव
रिपोर्ट के अनुसार Radio Flyer स्कूटर लड़के और लड़कियों के लिए एक ही डिजाइन के स्कूटर बेचता है लेकिन लड़कियों के स्कूटर का दाम ज्यादा है. क्वालिटी की बात करें तो दोनों स्कूटर के प्लास्टिक, हैंडल, पहिए और ब्रेक एक जैसे हैं. यहां तक कि दोनों का वजन भी पांच पाउंड है. लेकिन लड़कों को ये 24.99 डॉलर और लड़कियों को 49.99 डॉलर पर मिलता है. जांच रिपोर्ट में पाया गया कि यह भेदभाव 800 से ज्यादा प्रोडक्ट में है. चाहे वो ड्रेस हो या कॉस्मेटिक के सामान हों, फुटवेयर्स हों या शैम्पू हो, जेल हो या कंडीशनर, हर छोटी-बड़ी ऐसी चीज जिसे लड़के और लड़की दोनों यूज करते हैं, उनके दाम में अंतर है और हर बार लड़कियों के प्रोडक्ट की कीमत ज्यादा रखी जाती है.