नई दिल्ली. यूपी में समाजवादी परिवार के बीच तकरार थमती नहीं दिख रही. मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और उनके चाचा शिवपाल यादव के बीच पैदा हुई दरार का असर अब साफ-साफ दिखने लगा है. अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के समर्थकों ने अब इस बात की ज़ोर आज़माइश शुरू कर दी है कि पार्टी और संगठन का असली बॉस कौन है ?
 
हाल ही में समाजवादी पार्टी से निकाले गए पार्टी के यूथ विंग के नेता और कार्यकर्ताओं ने अखिलेश यादव के दफ्तर पर हाज़िरी लगानी शुरू कर दी है, तो समाजवादी पार्टी संगठन से जुड़े लोगों का मज़मा लखनऊ में समाजवादी पार्टी के मुख्यालय पर लगता है, जहां शिवपाल यादव का दफ्तर है.
 
अखिलेश यादव और शिवपाल यादव के बीच खींचतान का आलम ये है कि अखिलेश यादव 5 नवंबर को होने वाली पार्टी की सिल्वर जुबिली से भी दूर रहने वाले हैं. चाचा-भतीजे के बीच जंग में नेताजी यानी मुलायम सिंह यादव कभी शिवपाल के साथ नज़र आ रहे हैं, तो कभी अखिलेश यादव के..। बीच-बीच में अखिलेश और शिवपाल की मुलायम सिंह यादव के साथ मीटिंग का दौर भी जारी है. लोगों के लिए ये समझना मुश्किल हो गया है कि आखिर समाजवादी पार्टी में चल क्या रहा है.