नई दिल्ली. देश में एक तरफ गोमांस पर तीखी बहस की वजह से लोग भीड़ के हाथों मारे जा रहे हैं तो दूसरी तरफ केंद्र सरकार की एजेंसी नेशनल सैंपल सर्विस ऑफिस की रिपोर्ट में दावा किया गया है कि हर 13 में एक भारतीय शौक से बीफ खाता है. रिपोर्ट के मुताबिक 8 करोड़ बीफ खाने वालों में सवा करोड़ हिन्दू भी हैं.
 
केंद्रीय सांख्यिकी और योजना क्रियान्वयन मंत्रालय के तहत काम करने वाली एजेंसी नेशनल सैंपल सर्वे ऑर्गेनाइजेशन को ही नेशनल सैंपल सर्वे ऑफिस भी कहा जाता है. इस संस्थान की रिपोर्ट के आधार पर अंग्रेजी अख़बार लाइ मिंट ने एक ख़बर छापी है जिसके मुबातिक देश में 8 करोड़ लोग गाय या भैंस का मांस खाते हैं जिनमें सवा करोड़ हिन्दू हैं.
 
हिन्दुओं में सबसे ज्यादा बीफ खाते हैं अनुसूचित जाति के लोग
 
रिपोर्ट के मुताबिक 6 करोड़ 35 लाख मुस्लिम, 1.25 करोड़ हिन्दुओं, 65 लाख ईसाई और 9 लाख अन्य समुदाय के लोगों की फ़ूड हैबिट में बीफ शामिल है. बीफ खाने वाले हिन्दुओं में 65 फीसदी अनुसूचित जाति, 22 फीसदी ओबीसी, 6 फीसदी आदिवासी और 7 फीसदी अन्य जाति के हिन्दू शामिल हैं.
 
आबादी के हिसाब से मेघालय में सबसे ज्यादा बीफ की खपत
 
गाय या भैंस के मांस की खपत में आबादी के हिसाब से शीर्ष पांच राज्यों की लिस्ट में 80.74 प्रतिशत के साथ मेघालय सबसे ऊपर है. मतलब मेघालय के 100 में 80 लोग बीफ खाते हैं. मेघालय के बाद लक्षद्वीप में 77.29 प्रतिशत, नगालैंड 57.17 प्रतिशत, सिक्किम 30.57 प्रतिशत और जम्मू-कश्मीर 30.44 प्रतिशत लोग बीफ खाते हैं.
 
भले ही देश के 29 में से 24 राज्यों में गोमांस पर पांबदी हो पर अमेरिकी कृषि मंत्रालय की 2011 की रिपोर्ट के मुताबिक भारत में गाय और भैंस के मांस की खपत से ज्यादा उसके निर्यात में तेजी दर्ज की गई है.