मैंगलोर. कर्नाटक के मैंगलोर में एक आदमी को दूसरे समुदाय की महिला के साथ बातचीत करने को लेकर भीड़ ने उसे निर्वस्त्र कर खंभे से बांध दिया और उसकी बुरी तरह से पिटाई की गई. मैंगलोर के पुलिस कमिश्नर एस मुरुगन ने कहा है कि इस मामले में 13 लोगों को गिरफ्तार किया गया है. इनमें से कुछ बजरंग दल के सदस्य हैं.
 
29-वर्षीय यह आदमी सोमवार शाम को अपनी कार में एक महिला सहकर्मी के साथ जा रहा था, तभी भीड़ ने उसे घेर लिया और उस पर हमला बोल दिया. हमलावरों ने उसे बुरी तरह पीटा, कपड़े फाड़ दिए, परेड कराया और खंभे से बांध दिया. उन लोगों ने इस घटना की तस्वीरें खींचकर व्हाट्सऐप पर शेयर भी किए.
 
उस आदमी के साथ करीब घंटे भर तक मार-पिटाई की गई. जब घटना की तस्वीरें लोकल केबल चैनल पर प्रसारित होने लगीं, तो पुलिस मौके पर पहुंची. पीड़ित आदमी और उसके साथ जो महिला थी, वे दोनों एक मॉल में काम करते हैं. उसने पुलिस को बताया कि उस पर उस वक्त हमला किया गया, जब वह उस महिला के लिए एक एटीएम से पैसे निकालने जा रहा था. महिला ने उससे कर्ज मांगा था. महिला ने जब हमलावरों को रोकने की कोशिश की, तो उसे भी ज़लील किया गया. गौरतलब है कि मैंगलोर में उग्र भीड़ द्वारा मोरल पुलिसिंग किए जाने की घटना पहले भी सामने आती रही हैं. कुख्यात श्रीराम सेना के सदस्यों ने 2009 में एक पब में घुसकर बाल पकड़कर महिलाओं को घसीटा था और उन्हें थप्पड़ मारे थे.