भोपाल. मध्य प्रदेश के एक पुलिस कॉन्स्टेबल ने जो बहादुरी का काम किया है, उसे जान कर आप दिल से सलाम करेंगे. सागर जिले के चितोरा गांव के एक स्कूल में तोप का गोला मिलने की खबर ने पूरे इलाके में हड़कंप मचा दिया. मगर इसी दहशत के माहौल के बीच एक पुलिस कॉन्स्टेबल अभिषेक पटेल ने साहस का परिचय देते हुए स्कूल के करीब 400 बच्चों की जान बचाई. 
 
पुलिस कॉन्स्टेबल अभिषेक जिस अंदाज में स्कूल परिसर से बम लेकर भागे वो सच में फिल्मी नजारे से कम नहीं था. बताया जा रहा है कि जिस वक्त स्कूल में 400 बच्चे मौजूद थे. मगर जैसे ही अभिषेक को 100 नंबर स्कूल में बम की सूचना मिली, वो तुरंत मौके पर पहुंचे और जान जोखिम में डालकर बम लेकर स्कूल परिसर से भाग निकले. 
 
कॉन्स्टेबल अभिषेक ने बताया कि जब वे स्कूल पहुंचे तो देखा वहां करीब 400 बच्चे मौजूद हैं और स्कूल के टीचर भी. उनके मुताबिक, बम का वजन 10 किसो था और उसकी लंबाई 12 इंच थी. हालांकि, अच्छी बात ये रही कि उन्होंने बम निरोधक दस्ते की ट्रेनिंग ली थी. 
 
 
अभिषेक के मुताबिक, उन्हें ट्रेनिंग के दौरान बताया गया था कि इतने वजन वाला बम अगर फट जाए तो 500 मीटर के आसपास तक नुकसान पहुंचा सकता है. अब उनके पास 400 बच्चों और वहां मौजूद लोगों बचाने के लिए कोई रास्ता नहीं सूझ रहा था और बम किसी भी समय फट सकता था क्योंकि यह कोई नहीं जानता था कि बम किस हालत में है.
 
यही वजह है कि कॉन्स्टेबल अभिषेक जान हथेली पर रखकर बम को अपने कंधे पर रखकर दौड़ना शुरू कर दिया और स्कूल से दूर ले जाकर उसे फेंक दिया. अभिषेक ने साहस के साथ इस काम को अंजाम दिया और किसी तरह की अनहोनी होने से बचा लिया. हालांकि, अभी तक ये नहीं पता चल पाया है कि आखिर स्कूल में बम कहां से आई. मामले की जांच चल रही है.