नई दिल्ली : दुनिया में एक ऐसी जगह जहां रहने वाला हर शख्स करोड़पति है. उसके पास कार और बांगला है. यहां बड़े होटल और लग्जीरियस मॉल हैं. चमचमाती सड़के हैं और आसमान में उड़ते हैल्किॉपटर हैं. यहां हर वह सुविध जो आपने केवल सुनी होगी. लेकिन, जैसे ही कोई इस गांव से बाहर निकलता है, वह अमीर से गरीब हो जाता है. 
 
यह जगह कोई आधुनिक शहर नहीं बल्कि चीन का एक गांव है. जिंयाग्सू प्रांत में स्थित इस गांव का नाम हुआक्जी है, जो अपने यहां रहने वाले हर शख्स को अमीर बनाने के लिए बहुत अधिक खर्चा करता है. जैसे ही आपक इस गांव में रहने जाते हैं तो अथॉरिटी आपको कार और बंग्ला देती है. आप इस गावं की सैर हैलिकॉप्टर टैक्सी में कर सकते हैं. यहां हर व्यक्ति के खाते में 85 लाख रुपये राशि जमा है.
 
गांव की कमाई नौ हजार करोड़ 
यह गांव शंघाई से दो घंटे की दूरी पर स्थित है. हुआक्जी गांव इतना संपन्न है कि साल 2003 में इस गांव ने अपनी कमाई 9 हजार करोड़ रुपये ज्यादा बताई थी. यहां पर स्टील प्रोडक्शन और टेक्सटाइन का कारोबार बड़े स्तर पर चलता है. 
 
इस गांव चीनी सरकार के विकास का प्रतीक माना जाता है. हालांकि, इसे सरकार का प्रोपेगेंडा भी कहा जाता है, जिसके जरिए वह दुनिया की चीन के विकास की रफ्तार दिखाना चाहते हैं. यहां रहने वाले लोगों को अथॉरिटी की तरफ से कई लाभ मिलते हैं. लेकिन, ये लाभ तभी तक रहते हैं जब तक कोई इस गांव में रहता है. 
 
कैश पर अथॉरिटी का नियंत्रण
यहां सैलेरी से कई गुना ज्यादा बोनस मिलता है, जिसे कैश नहीं किया जा सकता. यहां का सैलरी और बोनस सिस्टम ऐसा है कि गांव छोड़ने पर कुछ नहीं मिलता. लोग सैलरी का सिर्फ 30 प्रतिशत ही कैश करा पाते हैं. यह भी कहा जाता है कि यहां लोगों के पैसे को अथॉरिटी नियंत्रित करती है. यहां पत्रकारों और एजेंसियों को बिना इजाजत आने की अनुमति नहीं है.