नई दिल्ली. आप कहीं लॉन्ग ट्रिप पर जा रहे हैं और आपकी गाड़ी का टायर पंचर हो जाए तो आप किसी मकैनिक की तलाश करेंगे. बेशक आप उम्मीद करेंगे कि मकैनिक पुरुष हो. लेकिन अगर आपको महिला मकैनिक मिल जाए तो?
 
हैरान हो गए ना. लेकिन यह बात बिल्कुल सच है. भारत में ऐसी पहली महिला मकैनिक है जिसे टायर का पंचर बनाने के साथ-साथ टायर फिक्स करना भी अच्छे से आता है.
 
इस महिला मकैनिक का नाम शांति देवी है, जिसकी उम्र 55 वर्ष है, जो दिल्ली की रहने वाली है. शांति पिछले 20 सालों से मकैनिक्स का काम कर रही हैं. जो रोजाना 10-15 टायरों के पंक्चर बनाती हैं. शांति 50 किलो के टायर को आराम से उठा और हिला सकती हैं.
 
 
शांति अपने घर-परिवार के लिए काम करने की ये ललक आपको दिवाना कर देगी.  मकैनिक काम से पहले वो दिल्ली की सीमा पर स्थित एक टी स्टाल पर काम करती थी. लेकिन सिर्फ इतने घर का खर्चा पूरा नहीं होता था तो ओवर टाइम करने के लिए उसने ने पति से मकैनिक्स का काम सीखा. 
 
इसके अलावा शांति को समाज के सवालों का भी सामना करना पड़ा है. उसके इस काम पर उंगलिया भी उठाई. लेकिन उसने अपने काम से सभी कस्टमर्स का भी दिल जीत लिया.
 
इन सबके अलावा भी शांति को जब समय मिलता है वो स्कूलों और कॉलेजों में स्पीच भी देती है. शांति देवी का यह हौसला देखकर यही लगता है अगर आप कुछ करना चाहें तो आपको कोई नहीं रोक सकता.