नई दिल्ली. मादा के बिना भी बच्चा पैदा हो सकता है, ये सुनकर बहुत अजीब लगता है लेकिन भविष्य में ऐसा होने की संभावना है. वैज्ञानिकों ने इसमें कुछ हद तक सफलता पाई है. 
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
नेचर कम्युनिकेशन जर्नल में छपे एक शोध के निष्कर्षों के मुता​बिक भविष्य में बच्चे पैदा करने की प्रक्रिया में स्त्री की अनिवार्यता खत्म हो सकती है. ​वैज्ञानिकों ने सिर्फ शुक्राणुओं के इस्तेमाल से चूहे के स्वस्थ बच्चे पैदा करने में सफलता पाई है. 
 
इस प्रयोग के लिए वैज्ञानिकों ने पहले रसायनों के उपयोग से एक नकली भ्रूण बनाया. इस भ्रूण के कई गुण दूसरी आम कोशिकाओं जैसे ही थे. यह त्वचा की कोशिकाओं की तरह विभाजित होते थे. इसमें अपने डीएनए को नियंत्रित करने की क्षमता थी. उन्होंने फिर नकली भ्रूण में शुक्राणु डालकर चूहे के बच्चे पैदा किए. 
 
वैज्ञानिकों का मानना है कि अगर चूहे के साथ यह प्रयोग सफल हो सकता है, ​तो एक दिन इंसानों में भी अंडों के अलावा अन्य कोशिकाओं से पैदा किया जाना संभव हो सकता है. 
 
आम कोशिका और शुक्राणु से बन सकेगा भ्रूण
इस शोध के पीछे का मुख्य उद्देश्य निषेचन की असल प्रक्रिया को समझना था. किसी अंडे के शुक्राणु के साथ निषेचन करने पर वाकई क्या होता है, यह अभी तक रहस्य ही है. इसका स्पष्ट रूप से कोई जवाब नहीं. 
 
कुछ हद तक इसे ऐसे समझ सकते हैं कि कोई अंडाणु किसी शुक्राणु के डीएनए को उसकी रासायनिक संरचनाओं सहित अपने में समाहित कर लेता और उसे एक नया रूप दे देता है. लेकिन, यह कैसे होता है ये स्पष्ट नहीं है. 
 
वैज्ञानिकों का कहना है कि भविष्य में ऐसा संभव हो सकता है कि शरीर की किसी भी सामान्य कोशिका से शुक्राणु का मिलन करवा कर बच्चा पैदा किया जा सकेगा. यह एक स्त्री और पुरुष या दो पुरुषों के बीच भी संभव होगा.