नई दिल्ली. लेबनान में इसराइल के लिए जासूसी के शक में पकड़े गए एक बड़े गिद्ध को संयुक्त राष्ट्र के दखल के बाद छोड़ दिया गया है. रिपोर्ट्स के मुताबिक करीब दो मीटर लंबे पंखों वाला यह गिद्ध इसराइली सीमा से उड़कर आया था, जिसे मंगलवार को लेबनान के ग्रामीणों ने पकड़ा था. इसकी पूँछ से एक ट्रैकिंग मशीन लगा था जिसकी वजह से लोगों ने इसे जासूस समझा.
 
रिपोर्स के मुताबिक इस तरह के मशीनों का प्रयोग मध्यपूर्व में गिद्धों की प्रजाति बचाने के लिए चल रहे एक प्रोजेक्ट के तहत किया जाता हैं. वन्यजीव अधिकारियों का कहना है कि इस गिद्ध को पिछले साल स्पेन से खरीदा गया था और एक महीने पहले इसे इसराइल के नियंत्रण वाले इलाके गोलन हाइट्स के गामला प्राकृतिक पार्क में छोड़ा गया था.
 
तेल अवीव विश्वविद्यालय इस पक्षी में लगे जीपीएस उपकरण के जरिए इसकी उड़ान पर नजर रखे है. इसके पैर में एक छल्ले पर लिखा है – ”तेल अवीव विश्वविद्यालय, इसराइल”
 
लेबनानी मीडिया के मुताबिक गांव वालों ने इस गिद्ध को तब छोड़ा जब यह साफ हो गया कि यह जासूसी मिशन पर नहीं था. गिद्ध को लगी मामूली चोटों का भी इलाज चल रहा है.
 
बता दें कि यह किसी गिद्ध को इसराइली ख़ुफ़िया एजेंसी मोसाद का एजेंट होने के शक में पकड़े जाने का पहला मामला नहीं है. इससे पहले भी ऐसे कितने गिद्ध को पकड़ा गया है.