नई दिल्ली. मोदी सरकार में विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के पूर्व कमिश्नर ललित मोदी की मदद का आरोप लगा है. इस मसले पर केंद्र सरकार, बीजेपी और आरएसएस सुषमा के बचाव में उतर आया है, जबकि कांग्रेस ने विदेश मंत्री से इस्तीफा मांगा है. बीजेपी ने कहा है कि सुषमा ने कुछ भी गलत नहीं किया है और उन्होंने सिर्फ ‘मानवीय’ आधार पर कदम उठाया.

ऐसे में बड़ा सवाल ये है कि क्या अपने विदेश मंत्री को बचाने के लिए मोदी सरकार कुछ भी कर सकती है ? क्या एक भगोड़े अपराधी की मदद करनेवाले मंत्री को यूं ही बख्श दिया जाएगा ?