नई दिल्ली. बीजेपी में राम मंदिर का मुद्दा जोर पकड़ता जा रहा है. पिछले 4 दिनों में तीसरी बार इसे लेकर पार्टी के अंदर आवाज उठी है. पार्टी के फायर ब्रांड नेता विनय कटियार के बाद को इस मुद्दे उत्तर प्रदेश में उन्नाव से सांसद और पार्टी में कट्टर छवि वाले नेता साक्षी महाराज ने कहा है कि राम मंदिर को हम भूलने नहीं देंगे और इसे बीजेपी ही बनाएगी.

वहीं विपक्ष का आरोप है कि राम मंदिर का मुद्दा फिर से इसलिए सामने लाया गया है कि ताकि मोदी सरकार की नाकामियों से ध्यान हटाया जाए. सवाल ये है कि राम मंदिर पर क्या होने वाला है. क्या सत्ता में आने के बाद बीजेपी के अंदर इस मुद्दे को लेकर कट्टरपंथियों और नरमपंथियों के दो धड़े बन चुके हैं ? सवाल बड़ा है कि मोदी और उनकी टीम राम मंदिर का क्या करेगी ?