नई दिल्ली: सूर्य के सबसे नजदीक बुध ग्रह होता है. देवों की सभा में बुध को राजकुमार कहा जाता है, ज्योतिष शास्त्र में बुध का एक महत्वपूर्ण स्थान है और इसे एक शुभ ग्रह माना जाता है. कुछ परिस्थितियों में या फिर अशुभ कार्य ग्रह के संगम से यह हानिकारक भी हो जाता है. कुंडली में बुध की स्थिति तय करती है कि आप कैसा बोलते हैं, कैसा व्यव्हार करते हैं, आपका व्यक्तित्व और बुद्धि कैसी है. आज हम शो में आपकी कुंडली में बुध की स्थिति के बारे में ही बात करने जा रहे हैं.

सूर्य अगर हमारा पूरा शरीर यानि राजा है तो बुध हमारी बुद्धि और हमारी नसें सब कुछ होता है. अगर हमारे शरीर की नसे अच्छी न हो तो हमारा पूरा शरीर ही बेकार है और अगर बुद्धि अच्छी नहीं हो तो फिर सारा शरीर कितनी भी अच्छा क्यों न हो किसी काम का नहीं. इसी वजह से बुध को राजकुमार कहा गया है.

जिस इंसान की जन्मकुंडली में बुध खराबी पर आ गया तो उसकी पहचान सबसे पहले उसकी बुद्धि से लगाई जा सकती हैं. लेकिन क्या आप जानते हैं कि बुध आपकी कुंडली को कैसे प्रभावित करेगा, बुध ग्रह का बुद्धि से क्या कनेक्शन होता है, मंगल-बुध का मेल किसे दिलाएगा कामयाबी, सेहत और सुंदरता बढ़ाने वाले बुध के उपाय क्या है, कुंडली का बुध कैसे दिलाएगा आपको शुभ फल, कुंडली के खराब बुध का सेहत पर प्रभाव, कुंडली में बुध की महादशा के प्रभाव और उपाय आपके इन सभी सवालों का जवाब दे रहे हैं एस्ट्रो साइंटिस्ट जीडी वशिष्ठ इंडिया न्यूज के खास प्रोग्राम गुरु मंत्र में.

गुरु मंत्र: नौकरी-कारोबार में तरक्की दिलाने वाले बृहस्पति ग्रह के अचूक उपाय

गुरु मंत्र: कुंडली में बृहस्पति ग्रह को ठीक करने के ये हैं अचूक उपाय