नई दिल्ली. इंडिया न्यूज के शो गुरू मंत्र में स्वस्थ्य, मोटापे और कमजोरी के विषय पर बात की जाएगी. साथ ही इन प्रशनों के उत्तर देंगे मोटापे का हमारी कुंडली से क्या संबंध है? कुंडली में मोटापे के लक्षणों को कैसे पहचानें? छोटे बच्चे बार बार बीमार क्यों पड़ते हैं? आखिर आप इन समस्याओं से खुद को कैसे बचा सकें, इसके उपाय आज इस शो के माध्यम से जान सकते हैं.  कुंडली में होने वाली स्वस्थ्य, मोटापे और कमजोरी के लक्षण, जानिए, इन समस्यां को दूर करने के लिए क्या कर सकते हैं. आज एस्ट्रो साइंटिस्ट जीडी वशिष्ठ जी गुरु मंत्र शो में इन सभी विषयों पर चर्चा करेंगे.

कुंडली में मोटापे के लक्षण
बुध और बृहस्पति राशि का एक ही घर में होना और किसी एक घर का खराब होने से मोटापा पक्का है. जिन लोगों की जन्म कुंडली में शुक्र बहुत ही खराब दशा में हो तो उन लोगों को भी मोटापा होता है.
उपाय 43 दिन खाली मटके का जल प्रवाह करने से इस समस्या से मुक्ति पा सकते है. दौड़ लगाना चाहिए.
जिनका शुक्र का कमजोर होता है, इनका मोटापा आलस के कारण और खान पान की बूरी आदत के कारण मोटापा आता है.
उपाय 43 दिन के लिए आटे का दिया बनाकर सुबह लक्ष्मी नरायण के मंदिर में जलाए.
छोटे बच्चे बार बार बीमार क्यों पड़ते हैं?
पापी ग्रह के कारण बच्चे बार बार बीमार पड़ते है. आप चद्रं और मंगल को मजबूत बनाए रखें. बच्चें को शुरू से शहद चाटाए. बच्चा जब तक 3 साल तक का ना हो जाए हर रविवार को जौ और गुड को सात बार बच्चे के शरीर से फेर कर दान करें बच्चे का सेहत बना रहेगा.आपके सभी सवालों का जवाब देंगे एस्ट्रो साइंटिस्ट जीडी वशिष्ठ इंडिया न्यूज के खास प्रोग्राम गुरु मंत्र में.

ये भी पढ़े

गुरु मंत्र: पारिवारिक रिश्तों में कलह के लक्षण और इन्हें खत्म करने के वास्तु उपाय

गुरु मंत्र: दुर्घटना से बचाने वाले ये हैं ज्योतिषीय उपाय