नई दिल्ली. कामाख्या देवी मंदिर को दुनिया का सबसे बड़ा तांत्रिक मंदिर माना गया है, लेकिन क्या आप जानते हैं कि देवी मंदिर होते हुए भी यहां किसी देवी की मूर्ति नहीं है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
गुवाहाटी से 8 किमी दूर कामागिरी नीलांचल पर्वत पर स्थित कामाख्या देवी का मंदिर आलौकिक शक्तियों और तंत्र सिद्धि का प्रमुख स्थल माना गयाहै. कामाख्या मंदिर 51 शक्तिपीठों में से एक है. कहा जाता है कि यहां सति देवी का योनि भाग गिरा था. यही वजह है कि यह मंदिर सति देवी की योनि का प्रतिनिधित्व करता है.
 
यहां भगवान शिव और भगवान विष्णु की भी पूजा होती है. कामाख्या मंदिर के और रहस्य को जानने के लिए आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा के साथ इंडिया न्यूज पर देखिए खास शो गुरु पर्व.