नई दिल्ली. योगनिद्रा का अर्थ है आध्यात्मिक नींद. यह वह नींद है, जिसमें जागते हुए सोना है. सोने व जागने के बीच की स्थिति है योग निद्रा. इसे स्वप्न और जागरण के बीच ही स्थिति मान सकते हैं.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
यह झपकी जैसा है या कहें कि अर्धचेतन जैसा है. देवता इसी निद्रा में सोते हैं. आप भी रोजाना योगनिद्रा का अभ्यास कर के अपने जीवन में  प्यार, पैसा का सुख भोग सकते हैं. साथ ही  ग्रहों के बुरे प्रभाव को दूर करेगी योगनिद्रा बताएंगे अध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा इंडिया न्यूज के शो गुरु पर्व. वीडियो पर क्लिक कर देखिए पूरा शो