नई दिल्ली. भगवान भोलेनाथ की दो रूपों में पूजा की जाती है और वह हैं मूर्ति रूप और शिवलिंग रूप. महादेव का मूर्तिपूजन भी श्रेष्ठ है, लेकिन लिंग पूजन सर्वश्रेष्ठ माना जाता है.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
हमारे शास्त्रों द्वारा शिवजी सहित किसी भी देवी देवता की खंडित, टूटी-फूटी मूर्ति का पूजन निषेध है तथा ऐसी मूर्तियों को पूजा घर में रखने की मनाही है.
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
अब सवाल उठता है कि शिवलिंग में भी कौन-सा शिवलिंग सर्वश्रेष्ठ है? क्या महिलाएं शिवलिंग की पूजा कर सकती हैं? शिवलिंग के नीचे योनी का क्या रहस्य है? ज्योतिर्लिंग और शिवलिंग में क्या अंतर है? आपके ऐसे ही तमाम सवालों का जवाब देंगे आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा इंडिया न्यूज के खास शो गुरु-पर्व में.