नई दिल्ली. एक बार भगवान शिव और माता पार्वती घूमते हुए काशी पहुंच गए. वहां पर भगवान शिव अपना मुंह पूर्व दिशा की ओर करके बैठे थे. उसी समय पार्वती ने पीछे से आकर अपने हाथों से भगवान शिव की आंखों को बंद कर दिया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
ऐसा करने पर उस पल के लिए पूरे संसार में अंधेरा छा गया. दुनिया को बचाने के लिए शिव ने अपनी तीसरी आंख खोल दी, जिससे संसार में पुनः रोशनी बहाल हो गई. लेकिन उसकी गर्मी से पार्वती को पसीना आ गया. वामन पुराण की पूरी कथा सुनाएंगे अध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा इंडिया न्यूज के शो गुरु पर्व में
 
Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter
 
वीडियो में देखे पूरा शो