नई दिल्ली. प्राचीन भारत की शिक्षा, चिकित्सा, साहित्य, व्यापार और विज्ञान से संबधित एक से बढ़ कर एक झांकी बना यह दर्शा दिया कि भारत हमेशा जगतगुरु रहा है. आचार्य श्री विद्यासागरजी के आर्शीवाद से संचालित विद्यापीठ में कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संभाग कमिश्नर दीपक खाण्डेकर और जिला शिक्षाधिकारी कंचनलता जैन रहीं.

इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर

बालिकाओं ने नृत्य के माध्यम से नारी सशक्तिकरण का संदेश दिया। कमिश्नर खांडेकर ने स्टूडेंट्स के प्रयास की प्रशंसा की. भारत को क्यों जगतगुरु कहते हैं बताएंगे अध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा इंडिया न्यूज के शो गुरु पर्व में

Stay Connected with InKhabar | Android App | Facebook | Twitter

वीडियो में देखे पूरा शो