नई दिल्ली. कहते हैं कि मधुर वाणी सबका मन जीत लेती है. मीठा बोलने से शत्रु भी मित्र बन जाते हैं. लेकिन कभी-कभी हमारी वाणी अर्थात हमारा गला ही हमारा साथ नहीं देता है. हम में से बहुत से लोग ऐसे हैं जिनका गला अक्सर खराब हो जाता है. 
 
अगर गला ही ठीक न रहे तो अपनी बातों से लोगों को प्रभावित करना तो दूर की बात है हम ठीक से संवाद भी नहीं कर पाएंगे.
इसलिए स्वस्थ कंठ और मधुर आवाज होना जरूरी है. मधुर आवाज पाने के कुछ खास व असरदार उपाय आपको बताएंगे अध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा इंडिया न्यूज के शो गुडलक गुरु में