नई दिल्ली. प्रेम विवाह आज के भौतिक युग में आम बात हो गई हैं युवावस्था में प्रवेश करते ही प्रत्येक युवक-युवती स्वप्निल संसार में खोया रहता है लेकिन कहते है कि जोडि़यां विधाता द्वारा प्रहले से ही तय की हुई होती है .ज्योतिष शास्त्र के अनुसार प्रेम विवाह से संबंधित तीन ग्रह होते हैं. यह तीन ग्रह सूर्य, बुध और शुक्र हैं. इन तीनों ग्रहों के कारण व्यक्ति को प्रेम होता है. अगर यह तीनों ग्रह एक साथ एक ही भाव में स्थित हो तो वह व्यक्ति प्रेम विवाह निश्चित करता है.
 
इंडिया न्यूज के खास शो गुडलक गुरु में आध्यात्मिक गुरु पवन सिन्हा आज आपको बताएंगे कि हाथों की रेखाओं में लब मैरिज होने का संकेत, लव मैरिज में होने वाले दिक्कतें आदि.
 
वीडियो में देखें पूरा शो