Hindi goodluck-guru shakti peeth, hinglaj shakti peeth, pakistan Navratri, Navratri 2016, Devi durga, Maa Durga http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/guru-purv_7.jpg

गुरु पर्व: क्या है पाकिस्तान की हिंगलाज शक्तिपीठ का रहस्य?

गुरु पर्व: क्या है पाकिस्तान की हिंगलाज शक्तिपीठ का रहस्य?

By Web Desk | Updated: Sunday, October 2, 2016 - 10:36

secrets of shakti peeth hinglaj in pakistan

गुरु पर्व: क्या है पाकिस्तान की हिंगलाज शक्तिपीठ का रहस्य?secrets of shakti peeth hinglaj in pakistanSunday, October 2, 2016 - 10:36+05:30
नई दिल्ली. भारतपर्व में हम लगातार भारतीय संस्कृति के वैज्ञानिक पहलूओं पर चर्चा कर रहे हैं तो दूसरी तरफ हम भारत के मंदिरों को समझने की कोशिश कर रहे हैं क्योंकि अगर आपने भारत के मंदिरों को समझ लिया तो आपने भारत को समझ लिया.
 
इनख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
शक्तिपीठ पूरे भारतीय उपमहाद्वीप पर फैले हुए हैं, देवी पुराण में 51 शक्तिपीठों का वर्णन है जबकि देवी भागवत में जहां 108 और देवी गीता में 72 शक्तिपीठों का वर्णन मिलता है, वहीं तन्त्रचूडामणि में 52 शक्तिपीठ बताए गए हैं. इन 51 शक्तिपीठों में से कुछ विदेश में भी हैं. भारत-विभाजन के बाद 5 शक्तिपीठ कम हो गए और अब भारत में 42 शक्तिपीठ रह गए हैं. एक शक्तिपीठ पाकिस्तान में चला गया और 4 बांग्लादेश में और शेष 4 पीठों में एक-एक श्रीलंका तथा तिब्बत में तथा दो शक्तिपीठ नेपाल में है.
 
 
देवी भागवत के अनुसार शक्तिपीठों की स्थापना के लिए भगवान शिव स्वयं भू-लोक में आए थे और दानवों से शक्तिपिंडों की रक्षा के लिए अपने विभिन्न रूद्र अवतारों को उत्तरदायित्व दिया. यही कारण है कि सभी 51 शक्तिपीठों में आदिशक्ति का मूर्ति स्वरूप नहीं है, इन पीठों में पिंडियों की आराधना की जाती है. साथ ही सभी पीठों में भगवान शिव की रूद्र भैरव के रूपों की भी पूजा होती है. इन पीठों में कुछ तंत्र साधना के मुख्य केंद्र हैं.
 
पाकिस्तान में हिंगलाज शक्तिपीठ
हिंगलाज माता मंदिर शक्तिपीठों में पहला शक्तिपीठ माना जाता है. पाकिस्तान के बलूचिस्तान राज्य की राजधानी कराची से 120 किमी उत्तर-पश्चिम में हिंगोल नदी के तट पर ल्यारी तहसील के मकराना के तटीय क्षेत्र में हिंगलाज में स्थित है, हिंगोल नदी किनारे अघोर पर्वत पर है. यहीं माता का ब्रह्मरंध्र (सिर) गिरा था.
 
यह इलाका पाकिस्तान और अफगानिस्तान के बॉर्डर पर है. मान्यता है कि माता सती के शरीर का पहला टुकड़ा अर्थात सिर का एक भाग यहीं अघोर पर्वत पर गिरा था. इस स्थान को हिंगलाज, हिंगुला, कोटारी और नानी का मंदिर नाम से जाना जाता है, यह मंदिर मानव निर्मित नहीं है, बल्कि प्राकृतिक रूप से हुआ है.शक्तिपीठ बांग्लादेश के खुलना ज़िले के जैसोर नामक नगर में स्थित है| यहाँ
First Published | Sunday, October 2, 2016 - 10:12
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
Web Title: secrets of shakti peeth hinglaj in pakistan
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.

फोटो गैलरी

  • उत्तराखंड के बद्रीनाथ मंदिर में राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी
  • मुंबई के केलु रोड स्टेशन पर एक ट्रेन में सवार अभिनेता विवेक ओबेरॉय
  • मुंबई में अभिनेत्री सनी लियोन "ज़ी सिने पुरस्कार 2017" के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • सूफी गायक ममता जोशी, पटना में एक कार्यक्रम के दौरान प्रदर्शन करते हुए
  • लखनऊ में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को बधाई देते प्रधान मंत्री नरेंद्र मोदी
  • मुंबई में आयोजित दीनानाथ मंगेसकर स्मारक पुरस्कार समारोह में अभिनेता आमिर खान
  • चेन्नई बंदरगाह पर भारतीय तटरक्षक बल आईसीजीएस शनाक का स्वागत
  • आगरा में ताजमहल देखने पहुंचे आयरलैंड के क्रिकेटर
  • अरुणाचल प्रदेश में सेला दर्रे पर भारी बर्फबारी का एक दृश्य
  • कोलकाता के ईडन गार्डन में वंचित बच्चों की मदद के लिए क्रिकेट खेलने पहुंचे पूर्व क्रिकेटर टीएमसी मंत्री लक्ष्मी रतन सुक्ला