नई दिल्ली: ज्योतिष शास्त्र के अनुसार हमारे हाथ की रेखाओं में हमारे जीवन के भावी संकेत मिलते हैं. वैसे तो कहा जाता है कि गर्भावस्था के दौरान ही शिशु के हाथ में लकीरों का जाल बुन जाता है, जो जन्म से लेकर मृत्यु तक रेखाओं के रूप में विद्यमान रहता है. इसे हम हस्तरेखा के रूप में जानते हैं.
 
 
ऐसा माना जाता है कि 16 वर्ष की आयु तक पहुंचते-पहुंचते हाथों की रेखाओं में लगातार परिवर्तन होता रहता है. इसके बाद इन रेखाओं का प्रभाव जीवन में नजर आने लगता है. हाथ का विश्लेषण करते समय सबसे पहले हम हाथ की बनावट को देखते हैं तत्पश्चात यह देखा जाता है कि हाथ मुलायम है या सख्त.
 
 
आम तौर पर पुरुषों का दायां हाथ तथा स्त्रियों का बायां हाथ देखा जाता है. यदि कोई पुरुष बायें हाथ से काम करता है तो उसका बायां हाथ देखा जाता है. हाथ में जितनी कम रेखाएं होती हैं, भाग्य की दृष्टि से हाथ उतना ही सुन्दर माना जाता है. यह रेखाएं अपने नाम के अनुसार परिणाम देती हैं, तो आइए जानें कौन सी रेखा का क्या परिणाम देती है. हाथ से जुड़े और भी राज बताएंगी फैमिली गुरू जय मदान सिर्फ इंडिया न्यूज पर
 
फैमिली गुरु: नए साल में बरकत के लिए अपनाएं ये उपाय