Hindi family-guru navratra special, Navratra Tips, worship of chandraghanta kushmanda devi, Bollywood News, Bollywood http://www.inkhabar.com/sites/inkhabar.com/files/field/image/NAVRATRA.jpg

फैमिली गुरु: मां दुर्गा के तीसरे रूप चंद्रघंटा देवी को पसंद हैं घंटियों की आवाज

फैमिली गुरु: मां दुर्गा के तीसरे रूप चंद्रघंटा देवी को पसंद हैं घंटियों की आवाज

    |
  • Updated
  • :
  • Monday, October 3, 2016 - 19:23

navratri third and fourth day worship of chandraghanta kushmanda devi

फैमिली गुरु: मां दुर्गा के तीसरे रूप चंद्रघंटा देवी को पसंद हैं घंटियों की आवाजnavratri third and fourth day worship of chandraghanta kushmanda deviMonday, October 3, 2016 - 19:23+05:30
नई दिल्ली. रविवार को नवरात्र का तीसरा दिन है. आम तौर पर तीसरे दिन मां भगवती के तीसरे स्वरूप चंद्रघंटा देवी की पूजा अर्चना होती है लेकिन इस बार की नवरात्र में तृतीया तिथि का क्षय है. जिसकी वजह से तृतीय व चतुर्थी तिथि के देवियों के एक साथ पूजा अर्चना होगी. इसलिए रविवार को चंद्रघंटा देवी और कूष्मांडा देवी दोनों की अराधना होगी.
 
ख़बर से जुड़ें | एंड्रॉएड ऐप्प | फेसबुक | ट्विटर
 
मां दुर्गा की तीसरी शक्ति का नाम चंद्रघंटा है. इनके मस्तक में घंटे के आकार का अर्धचंद्र है, इसीलिए इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है. इनका वाहन सिंह है. इनकी उपासना से वीरता एवं विनम्रता का विकास होता है. देवी का स्वरूप शांतिदायक और कल्याणकारी है.
 
इन चीजों का भोग लगाएं: मां चंद्रघण्टा को पूजा के बाद दूध का भोग लगाएं. उसके बाद उस दूध को किसी जरूरतमंद को पिलाएं, महा दुर्गा की पूजा करें और क्षमा प्रार्थान जरूर पढ़े. अगर आपकी शादी हो चुकी है तो सिंदूर जरुर लगाएं.
 
मां चंद्रघंटा को घंटों की आवाज क्यों ज्यादा पसंद है
घंटे की आवाज का ईको मस्तिष्क को एकाग्र करता है. घंटे की आवाज से दिमाग के दाएं और बाएं हिस्सों में संतुलन. घंटे की गूंज 7 सेकेंड तक रहती है. 
 
First Published | Monday, October 3, 2016 - 18:16
For Hindi News Stay Connected with InKhabar | Hindi News Android App | Facebook | Twitter
(Latest News in Hindi from inKhabar)
Disclaimer: India News Channel Ka India Tv Se Koi Sambandh Nahi Hai

Add new comment

CAPTCHA
This question is for testing whether or not you are a human visitor and to prevent automated spam submissions.