नई दिल्ली. स्कूल जाने से पहले ही बच्चे लगभग तीन वर्ष की आयु तक अक्षरों और कागज पर खींची गई टेढ़ी-मेढ़ी लकीरों का अंतर समझने लगते हैं. यह काबिलियत इस बात का संकेत है कि अब आपका बच्चा पढ़ाई-लिखाई के लिए तैयार है. लेकिन एक अध्ययन में
 
ये बात सामने आयी है कि तीन साल की उम्र में आप बच्चों की पढ़ने और सीखने की क्षमता का परीक्षण कर सकते हैं और भी ऐसे कुछ खास बताएंगी फैमिली गुरु जय मदान इंडिया न्यूज शो में
 
वीडियो क्लिक कर देखिए पूरा शो